lok sabha elections 2019 : army veterans letter president ramnath kovind narendra modi government politicizing army

SC/ST Act के विरोध में सवर्णों का ‘भारत बंद’, ड्रोन कैमरों से नजर, डैमेज कंट्रोल में जुटी बीजेपी

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नई दिल्ली, 6 सितंबर। SC/ST एक्ट के विरोध में सवर्ण संगठनों ने गुरूवार को भारत बंद बुलाया है। एहतियातन कई इलाकों में धारा 144 लागू कर दी गई है। बिहार, छत्तीसगढ़, राजस्थान सहित मध्य प्रदेश के कई इलाकों में इस बंद का मिला चुला असर देखने को मिला है। मध्य प्रदेश के ग्वालियर में स्कूल-कॉलेजों को बंद रखने का फैसला किया गया है। धारा 144 के बावजूद बिहार के कई इलाकों में टायर और आगजनी की घटना सामने आई है।

मध्य प्रदेश के कई जिलों में धारा 144
मध्य प्रदेश में पेट्रोल पंप एहतियातन बंद रखे गए हैं। बंद का सबसे ज्यादा असर ग्वालियर में देखने को मिला है। जहां बाजार पूरी तरह बंद कर दिए गए हैं। ग्वालियर, भिंड, मुरैना सहित 10 जिलों में धारा 144 लागू की गई है। वहीं भोपाल सहित अन्य जिलों में बंद का मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है। ड्रोन कैमरे के जरिए प्रशासन हर स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं।

बिहार में सड़कों पर आगजनी, ट्रैन रोकी
वहीं, अगर बिहार की बात करें तो राजधानी पटना सहित आरा, सहित अन्य जिलों में बंद का व्यापक असर देखने को मिल रहा है। कुछ इलाकों में ट्रेने भी रोकी गई हैं। खबर है कि खड़गिया और आरा में आंदोलकारियों ने रेलगाड़ी रोककर विरोध प्रदर्शन किया। जबकी कई जगह टायर जलाकर विरोध प्रकट किया गया। वहीं छत्तीसगढ़ में इस बंद का मिला जुला असर देखने को मिल रहा है। सवर्ण समाज, करणी सेना सहित 35 से अधिक सवर्ण संगठनों ने ‘भारत बंद’ का ऐलान किया है।

डैमेज कंट्रोल में जुटी बीजेपी
बीजेपी इस पूरे मामले में डैमेज कंट्रोल में जुटी हुई है। बीजेपी का कहना है कि एससी-एसटी एस्ट्रोसिटी एक्ट सवर्णों या उच्च जातियों के खिलाफ नहीं है।

मोदी सरकार सवर्ण समुदाय की नाराजगी दूर करने की कोशिशों में जुटी हुई है। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने बीते मंगलवार वरिष्ठ मंत्रियों और पार्टी नेताओं के साथ एससी/एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटने के बाद बने हालातों पर विस्तार से चर्चा सवर्ण समुदाय की नाराजगी को दूर करने के लिए मंथन किया। हांलाकि इसका निष्कर्ष क्या निकला ये स्थिति अब तक साफ नहीं हो पाई है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने की शांति की अपील
वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा है कि, हमारा मध्यप्रदेश शांति का टापू है, मैं पूरे मध्यप्रदेश की जनता से प्रार्थना करना चाहता हूं कि इस शांति को किसी की नजर ना लग जाए। हर नागरिक के लिए मेरे दिल का द्वार खुला हुआ है।

इसलिए हो रहा है विरोध
सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलटते हुए केंद्र सरकार ने बीते दिनों एससी/एसटी एक्ट में संशोधन कर उसे बहाल कर दिया है। जिसका सवर्ण समाज, करणी सेना, सपाक्स सहित कई अन्य उच्च जाति के संगठन विरोध कर रहे हैं। सवर्णों 6 सितंबर को भारत बंद का आह्वान किया है।