Home » रिसर्च स्कॉलर्स को नहीं मिली 5 महीने से फैलोशिप, लॉकडाउन में बुरा हाल

रिसर्च स्कॉलर्स को नहीं मिली 5 महीने से फैलोशिप, लॉकडाउन में बुरा हाल

Research Scholars Fellowship Stoped
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

लॉकडाउन की वजह से घर में कैद लोगों की मदद के लिए सरकार ने करोड़ों के पैकेज की घोषणा की मज़दूरों, किसानों के खातों में फौरी तौर पर मदद राशी पहुंचाई गई। इससे उन्हें काफी राहत मिली लेकिन देश का एक बड़ा तबका ऐसा है जो लॉकडाउन में आर्थिक तंगी से जूझ रहा है। उन्हें अपना घर चलाने के लिए कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। देश के रिसर्च स्कॉलर्स भी ऐसी ही समस्या से जूझ रहे हैं। ग्राउंड रिपोर्ट को रिसर्च स्कॉलर्स से मिली जानकारी के मुताबिक सरकार द्वारा रिसर्चर को फेलोशिप प्रदान की जाती है जिससे वे अपना रिसर्च का काम करते हैं। इस राशी से वे अपनी सभी ज़रुरतें पूरी करते हैं। नवंबर माह से सरकार द्वारा यह राशी प्रदान नहीं की गई है जिससे उन्हें कई मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है।

READ:  मोदी सरकार की 10 गलतियां जिनसे भारत में प्रलय बन गया कोरोना

कई रिसर्च स्कॉलर आर्थिक रुप से सक्षम नहीं है वे सरकार द्वारा मिलने वाली फेलोशिप पर ही ज़रुरी खर्चों के लिए निर्भर हैं। ऐसे में सरकार द्वारा कई महीनों से फेलोशिप को रोके रखना चिंताजनक है। लॉकडाउन में यह स्थित और गंभीर हो चुकी है।

CSIR-SRF के चिराग कुलकर्णी ने ग्राउंड रिपोर्ट को बताया कि पिछले 5-6 महीनों से उन्हें फेलोशिप नहींं मिली है। ऐसे और भी कई छात्र हैं जिन्हें फेलोशिप नहीं दी जा रही है। इस कठिन समय में सभी रिसर्च स्कॉलर्स सरकार से इस समस्या का जल्द से जल्द निवारण करने की अपील कर रहे हैं।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।