Home » Fake News: 2020 जीवित रहने का साल है, ऐसा रतन टाटा ने नहीं कहा

Fake News: 2020 जीवित रहने का साल है, ऐसा रतन टाटा ने नहीं कहा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

आजकल बड़ी-बड़ी हस्तियों के नाम से फेक पोस्ट बनाकर आपके सोशल मीडिया एकाउंट पर भेजे जा रहे हैं। किसी भी सेलिब्रिटी के नाम से पोस्ट बनाई जाती है और वो बात कह दी जाती है जो उन हस्तियों ने नहीं कही। इन पोस्ट का मकसद झूठी बातों का प्रचार करना और प्रोपगेंडा फैलाना होता है। सेलेब्रिटी के नाम पर लोग जल्दी भरोसा करते हैं। यह बात फेक न्यूज़ फैलाने वाला जनता है। ऐसा ही एक पोस्ट वायरल हो रहा है रतन टाटा के नाम से। रतन टाटा ने ट्वीट कर कहा कि उन्होंने ऐसी कोई बात कही ही नहीं है।

रतन टाटा ने कहा कि मुझे डर है कि इस बार भी मैंने ऐसा कुछ नहीं कहा जैसा इस पोस्ट में दावा किया जा रहा है। मैं लोगों से गुजारिश करता हूँ कि कुछ भी फॉरवर्ड करने या किसी भी पोस्ट पर विश्वास करने से पहले उसकी सत्यता जांच लें। पोस्ट में लगा सेलेब्रिटी का चेहरा और नाम सत्यता की ग्यारंटी नहीं है।

आप के व्हाट्सअप पर भी ऐसे ही पोस्ट आते होंगे अगली बार किसी भी सेलेब्रिटी या नेता के नाम से ट्वीट या अखबार की कटिंग डाली जाए तो यह ज़रूर देख लें कि वह बात उसने कही भी है या नहीं। गूगल पर आप सर्च करके उससे संबंधित जानकारी जुटा सकते हैं और आसानी से फेक न्यूज़ का पर्दाफाश कर सकते हैं।

READ:  Road accident in 2020: 1.20 lakh people died

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।