बलात्कार और अपहरण का आरोपी ‘नित्‍यानंद’ नेपाल के रास्‍ते विदेश भागा: गुजरात पुलिस

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | Nehal Rizvi

गुजरात के अपने एक आश्रम में बच्‍चों को क़ैद करके विवादों में आया बाबा नित्‍यानंद लापता हैं। गुजरात पुलिस ने दावा किया है कि नित्‍यानंद नेपाल के रास्‍ते विदेश भाग गया है। उसके साथ 11 वर्षीय लड़की भी नेपाल भाग गई है। आलीशान जीवनशैली के लिए मशहूर नित्‍यानंद अपने शिव भक्‍तों में भगवान शिव और कृष्‍ण भक्‍तों के लिए मुरलीधर जैसे थे । जून 2018 में, कर्नाटक की एक अदालत ने विवादित धर्मगुरु नित्यानंद के खिलाफ बलात्कार के मामले में आरोप तय किए थे।

एक दंपति ने बीते सोमवार को गुजरात उच्च न्यायालय का दरवाज़ा खटखटाते हुए अपनी दो बेटियों को सौंपे जाने की मांग की, जिन्हें यहां कथित रूप से स्वयंभू बाबा नित्यानंद द्वारा चलाए जा रहे एक संस्थान में गैरकानूनी रूप से बंधक बना रखा है। याचिकाकर्ता जनार्दन शर्मा और उनकी पत्नी ने अदालत को बताया कि उन्होंने 2013 में बेंगलुरु में स्वामी नित्यानंद द्वारा चलाए जा रहे शैक्षिक संस्थान में अपनी चार बेटियों का दाखिला कराया था और तब उनकी आयु 7 से 15 वर्ष के बीच थी।

READ:  Delhi Covid wave worsens: 8 cases per minute, 3 deaths every hour

जब उन्हें मालूम चला कि उनकी बेटियों को इस साल नित्यानंद ध्यानपीठम की एक अन्य शाखा योगिनी सर्वज्ञपीठम में भेज दिया गया है तो उन्होंने उनसे मिलने की कोशिश की। यह शाखा अहमदाबाद में दिल्ली पब्लिक स्कूल के परिसर में स्थित है। याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि संस्थान के अधिकारियों ने उन्हें उनकी बेटियों से मिलने नहीं दिया। रेप और अपहरण का आरोपी नित्‍यानंद अपने भक्‍तों के लिए भगवान की तरह से था जिनका भरोसा उन्‍होंने तोड़ा है। उधर जिन लोगों ने नित्‍यानंद के गायों को संस्‍कृत बुलवाने के दावे वाले वायरल वीडियो देखे हैं, उनके लिए वह विलेन की तरह से हैं।

READ:  SC कॉलेजियम की लगी मुहर तो सौरभ किरपाल होंगे देश के पहले समलैंगिक जज

याचिकाकर्ता जनार्दन शर्मा और उनकी पत्नी ने आरोप लगाया कि उनकी दो नाबालिग बेटियों को अगवा किया गया और दो सप्ताह से अधिक समय तक अवैध रूप से बंधक बनाया गया तथा उन्हें सोने नहीं दिया गया। उन्होंने इस संबंध में संस्थान के अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। याचिका में शर्मा ने मांग किया है कि हाईकोर्ट पुलिस और संस्थान के कर्मचारियों को निर्देश दे कि वे उनकी बेटियों को उन्हें सौंपें। दंपति ने संस्थान में रखे गए अन्य नाबालिग बच्चों की भी जांच की मांग की है।