अगर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का विमान उड़ान भरता तो हो सकता था क्रैश, जानें-पूरी घटना

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को ले जा रहे विमान एयर इंडिया वन में रविवार को बड़ी तकनीकी गड़बड़ी, रडर फॉल्ट (Rudder Fault) आ गई थी. उस वक्त वह ज्यूरिक (स्विट्जरलैंड) में थे. विमान में गड़बड़ी की वजह से उनका प्लेन तीन घंटे की देरी से उड़ान भर सका. शुक्र है कि उड़ान भरने से पहले ही विमान की खराबी पकड़ ली गई, नहीं तो बड़ा हादसा हो सकता था.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इन दिनों आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवेनिया के दौरे पर हैं. रविवार को उनके विमान को ज्यूरिक से स्लोवेनिया के लिए उड़ान भरनी थी. राष्ट्रपति 17 सितंबर को इस दौरे से वापस लौटेंगे. ज्यूरिक से उड़ान भरने से पहले ही उनके विमान में खराबी आ गई थी.

क्या है यह रडर फॉल्ट

रडर फॉल्ट (Rudder Fault) या रडर हार्डओवर (Rudder Hardover) विमानन क्षेत्र की ऐसी गड़बड़ी है, जिससे बड़ी-बड़ी विमानन कंपनियां खौंफ खाती हैं. माना जाता है कि उड़ान के दौरान विमान में अगर रडर फॉल्ट या रडर हार्डओवर आया तो विमान का क्रैश होना तय है. रडर, प्लेन के पिछले हिस्से में विमान की दिशा को नियंत्रित करने के लिए ऊपर की तरफ पर लगे होते हैं.

रडर फॉल्ट आने पर विमान का दिशा सूचक सिस्टम खराब हो जाता है. इससे विमान अचानक से एक दिशा में पूरी तरह से बाएं या दाएं मुड़ जाता है. विमान के अचानक से दिशा बदलने की वजह से विमान हवा में अनियंत्रित हो जाता है.