संसद ने नागरिकता संशोधन क़ानून बनाकर गांधी के विचारों का सम्मान किया है : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

बजट सत्र के पहले दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) ने अपने अभिभाषण में कहा कि संसद ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) बनाकर महात्मा गांधी के विचारों का सम्मान किया है। जैसे सी राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में ये बात बोली तो विपक्षी सदस्यों ने हंगाम इसका विरोध करते हुए संसद में हंगामा शुरू कर दिया।

नागरिकता क़ानून पर बोलते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि ये सीएए बहुत ही ऐतिहासिक है। इसने महात्मा गांधी के सपने को पूरा कर दिया। देश भर सीएए पर हो रहे प्रदर्शन और हिंसा की ओर इशारा करते हुए कहा कि विरोध प्रदर्शनों के दौरान हिंसा से लोकतंत्र कमजोर हो जाता है। राष्ट्रपति ने आगे कहा कि संसद ने नई सरकार के गठन के बाद पहले सात महीनों में कई ऐतिहासिक कानून पारित कर रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने कहा कि सरकार इस दशक को भारत का दशक बनाने के लिए मजबूत कदम उठा रही है।

ALSO READ:  1 अप्रैल से शुरु होगी NPR की प्रक्रिया!

क्या अनुराग ठाकुर के बयान से प्रेरित था जामियां में गोली चलाने वाला युवक ?

राष्ट्रपति ने कहा कि संसद ने नागरिकता संशोधन कानून बनाकर गांधी के विचारों का सम्मान किया है। महात्मा गांधी ने कहा था कि जो लोग पाकिस्तान में नहीं रह सकते, वे भारत आ सकते हैं। हालांकि इस दौरान विपक्षी सदस्यों ने हंगामा करते हुए इसका कड़ा विरोध किया ।  देश की आर्थिक हालात पर बोलते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि सरकार देश की अर्थव्यवस्था को पांच हजार अरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाने के लिए पूरी करह से प्रतिबद्ध है।

AAP के ‘विकास’पुरी में कीचड़ ही कीचड़, कमल खिलाने निकले BJP के संजय सिंह

ALSO READ:  ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और अमेरिका समेत कई अन्य देशों की मीडिया ने #CAA को मानवता के खिलाफ़ बताया

राष्ट्रपति ने पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हो रहे कथित अत्याचारों की आलोचना की तथा विश्व समुदाय से इस संबंध में आवश्यक कदम उठाने की अपील की। उन्होंने कहा कि सभी धर्मों के लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान वैसा ही है जैसा कि पहले था। उन्होंने कहा कि देश के लोग खुश हैं कि जम्मू-कश्मीर, लद्दाख को सात दशक बाद देश के बाकी हिस्सों के बराबर अधिकार मिले ।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।