Ram Manohar Lohia, Mahatma Gandhi, Pandit Jawaharlal Nehru,'s companion in today's political scenario

राम मनोहर लोहिया- आज के राजनैतिक परिदृश्य में गांधी के सिपाही और नेहरू के साथी

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राम मनोहर लोहिया (Ram Manohar Lohia) ने आजाद भारत में सत्ता से सवाल पूछना सिखाया और सत्ता के खिलाफ रहकर भारतीय राजनीति के साथ भारतीयों के मन-कर्म पर गहरा प्रभाव छोड़ा। वह हमेशा समाज और सरकार को एक साथ, एक रास्ते पर और एक समान बनाने के लिए कार्य करते रहे। उनका समाजवाद विश्व इतिहास से सीखते हुए भारतीय सभ्यता, भारतीय संस्कृति और भारतीय मानवतावाद से प्रभावित था, जिसमें सकल विश्व (दुनिया का अस्तित्व) समाहित था। उनके इस विशाल कार्य की नीव में गांधी का मार्गदर्शन, कार्ल मार्क्स का दर्शन, लेव टॉलस्टॉय की सूझ, प्लेटो के अनुभव, नेहरू का साथ, सरकारों का विरोध और दुनियाभर का इतिहास था। इन सब से मिलकर, जो उत्कृष्ट आंदोलन बनता है, उसे समाज राममनोहर लोहिया के रूप में याद करता है।

समाज, प्रयोग और सृजनात्मकता है लोहिया का जीवन
लोहिया का जीवन समाज, प्रयोग और सृजनात्मकता है, जो गांधी के अंतिम व्यक्ति और आज की दुनिया के पहले व्यक्ति के साथ समान व्यवहार करता है। लोहिया का समाजवाद सर्वोदय, फैबियन समाजवाद और मार्क्सवाद से प्रेरित था। जिसने एकात्म मानववाद व अंत्योदय के विचारों को काफी हद तक स्पष्टता प्रदान करायी। इस यात्रा में उनके सबसे बड़े साथी बने महात्मा गांधी। गांधी के संपूर्ण जीवन को देखें, तो हम पाते हैं कि गांधी ने हमेशा अपनी लकीर अलग खींची है, जिसमें अलग-अलग प्रकार के लोग, अलग-अलग प्रकार के विचार और अलग-अलग प्रकार के कार्य शामिल रहते थे। इन्हीं से मिलकर गांधी एक लकीर खींचते थे, जो ‘विविधता और एकता’ की पर्याय होती थी जिस लकीर को लोहिया ने ताउम्र लंबी करने के लिए प्रयास किया।

जातिवाद और राजशाही पर विकास की जीत है चुनाव परिणाम – विचार

लोहिया की इस यात्रा में मिला नेहरू का साथ
लोहिया की इस यात्रा में पंडित नेहरू कभी उनके साथ रहे, तो कभी उनके पीछे तटस्थता से खड़े दिखाई दिए, तो कभी न चाहते हुए उनसे अलग खड़े होने का आभास कराया। यही सत्ता और आंदोलन में अंतर है। और यही सत्ता व आंदोलन का कर्म है। इसी से लोकतंत्र बनता है। इसी से लोकतंत्र चलता है। इसके पीछे की वास्तविक वजह यदि हमें समझना है, तो उस समय के इतिहास को देखिए, जिसमें आसानी से परिस्थितियों और संघर्षों में समानता दिखाई देगी।

गांधी की शरण ली, नेहरू के साथ आज़ादी का नारा बुलंद किया
आजाद भारत में चीजें इतनी आसानी से नहीं बनी जितनी हमने मान लिया है, या जितनी हमें बतायी जाती हैं। यह वही देश था जिसने हजारों सालों तक राजा-महाराजा यानी मालिक-प्रजा की व्यवस्था को अपनाया। इसके बाद यदि हम आजाद होते, तो अलग बात थी। इसके बाद दो सौ साल तक हमें परतंत्र रहकर, उनके हिसाब से चलना पड़ा। तब जाकर हमें आजादी मिली थी। इस आजादी मिलने बस से काम नहीं चलने वाला था जिसे राममनोहर लोहिया अच्छे से समझते थे इसलिए उन्होंने सर्वप्रथम गांधी की शरण ली और नेहरू के साथ मिलकर आजादी की आवाज को बुलंद किया।

धारा 370 के मुखर विरोधी मुखर्जी से जब पहले प्रधानमंत्री नेहरू ने हाथ जोड़कर माफ़ी माँगी !

गांधी के बाद मिला अंबेडकर-जयप्रकाश का साथ
जब गांधी नहीं रहे तो उन्होंने पंडित नेहरू से अपने को अलग करते हुए, साथी की तरह समाज उत्थान का कार्य किया। इस संपूर्ण यात्रा में उन्हें अंबेडकर, कृपलानी, विनोबा और जयप्रकाश का साथ भी मिला जिसे पंडित नेहरू ने खुले दिल से स्वीकार किया और ताउम्र सहयोग भी प्रदान किया। नेहरू और लोहिया ने ही पक्ष और विपक्ष को एक बिंदु पर लाने का प्रयास किया, जिसमें दोनों सफल भी रहे। दोनों ने भविष्य की लोकतांत्रिक व्यवस्था के समक्ष पक्ष-विपक्ष का आदर्श उदाहरण प्रस्तुत किया लेकिन हालिया परिस्थितियों को देखते हुए लगता नहीं कि हमने उनके मानकों को सही से समझा है, या उस परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए प्रयास किया है। इसके लिए हमें यह भी देखना चाहिए कि तब में और अब में, ऐसा क्या बदल गया? जो नई-नई आजादी में था और नये-नये लोकतंत्र में था, जबकि तब तो हम, न तो आज के जितने अनुभवी थे और न ही आज की तरह व्यवस्थित। इसका उत्तर यह है कि उस समय सरकार का प्रतिनिधित्व पंडित जवाहरलाल नेहरू कर रहे थे, जो गांधी के प्रिय शिष्य थे। वे गांधी की अंतिम सांस तक और उसके बाद भी उनके ही बताये रास्ते पर चलने के लिए प्रतिबद्ध रहे।

राजीव की वजह से जिंदा हैं अटल, इन्दिरा को बताया था ‘दुर्गा’, कुछ ऐसे थे नेहरू से रिश्तें

फैबियन समाजवाद के पक्षधर थे नेहरू
नेहरू फैबियन समाजवाद के पक्षधर थे, जिसमें आर्थिक गतिविधियों में एक प्रभावी निष्पक्ष प्रशासित राज्य की नियमित सहभागिता की वकालत थी, तो दूसरी ओर विपक्ष के सबसे बड़े नेता के रूप में राममनोहर लोहिया थे, जो गांधी के अंतिम दिनों तक, उनके साथ नौआखली में दंगे शांत कर रहे थे। जिन्होंने भारतीय समाजवाद को परिभाषित किया था जिसके अनुसार- ‘समता और संपन्नता’ ही समाजवाद है। दोनों कि इसी समानता और संघर्षों ने आदर्श विपक्ष की उपमा दिलायी और लोकतंत्र मजबूत हुआ लेकिन हमें देखना होगा कि आज के हुक्मरान इस कसौटी पर कहां खड़े हैं। चाहे वे अपने आपको लोहिया के शिष्य बताने वाले समाजवादी लोग हो जिन्होंने व्यक्तिवाद की राजनीति स्थापित की है, या नेहरू को अपना पूर्वज मानने वाले हो, या फिर लोहिया से एकात्म मानववाद और अंत्योदय परिभाषित कराते हुए विपक्ष से पक्ष में पहुंचकर देश चलाने वाले ही क्यों न हो।

गांधीवादी युवा लेखक शिवाषीश तिवारी।

(यह लेख शिवाषीश तिवारी ने लिखा है। यह लेखक के निजी विचार हैं। लेखक शिवाषीश तिवारी भोपाल स्थित माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र हैं एवं वर्तमान में मध्यप्रदेश सर्वोदय मंडल के कार्यलय सचिव होने के साथ-साथ लेखक और पत्रकार भी हैं। गांधीवादी शिवाषीश मूलतः सामाजिक सरोकार से जुड़े हुए मुद्दों पर समय-समय पर अपने विचार प्रकट करते रहते हैं।)

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.