Home » Rajasthan Budget 2020: सरकार ने खोला नौकरियों का खज़ाना

Rajasthan Budget 2020: सरकार ने खोला नौकरियों का खज़ाना

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट | न्यूज़ डेस्क

राजस्थान सरकार ने अपना बजट 2020-21 पेश कर दिया है। यह गहलोत सरकार का दूसरा बजट है। इस बार सरकार ने युवाओं को नौकरियों की सौगात दी है। साथ ही कई नई योजनाओं का एलान किया है। बजट पेश करते हुए अशोक गहलोत ने सरकार की ओर से राज्य में किए गए कामों के बारे में भी जानकारी दी। इस बजट में सीएम गहलोत ने सभी वर्गों को साधने की कोशिश की। हम आपको बताते हैं बजट की 10 खास बातें-

1.जल जीवन मिशन योजना के जरिए हर घर में पेयजल पहुंचाया जाएगा।पहले चरण में 2020-21 में 16 जिलों में पाली, भीलवाड़ा, नागौर, कोटा, बूंदी, झुंझुनू, सीकर में 4327 गांवों में पेयजल पहुंचाया जाएगा। ग्रामीण क्षेत्र में छोटी पेयजल और सोलर ऊर्जा को बढ़ावा देने के प्रयास किए जाएंगे। वहीं 800 मेगा वाट सौर ऊर्जा के इकाई की घोषणा भी बजट में की गई।

2.कृषि के लिए 3420 करोड़ रुपये का ऐलान: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट पेश करते हुए कहा कि राज्य की माली हालत बहुत हद तक केंद्र की नीतियों पर निर्भर है। कृषि के लिए 3420 करोड़ रुपये का ऐलान किया।उन्होंने कहा कि किसानों के लिए किराए पर कृषि यंत्र उपलब्ध होंगे। साथ ही 300 कृषि यंत्र हायरिंग सेंटर्स की स्थापना होगी।

3. दो लाख 25 हजार करोड़: बजट पेश करते हुए गहलोत ने 7 संकल्पों का उल्लेख किया है। उन्होंने बजट में 53,151 पदों पर भर्ती का एलान किया। इसमें मेडिकल और हेल्थ में 4369, मेडिकल एजुकेशन में 573, कोओपरेटिव में 1000, एजुकेशन में 41000, लोकल सेल्फ गवर्मेंट में 1039, गृह विभाग में 5000 और जीएडी विभाग में 200 पदों पर भर्तियां होंगी।

READ:  Covid hits auto industry in India, workers strike and lawsuits

4. स्कूलों में शनिवार को ‘नो बैग डे’ की भी घोषणा भी की। इस दिन कोई पढ़ाई नहीं होगी। बल्कि पेरेंट्स टीचर मीटिंग और बालसभाएं होंगी। स्कूलों में PTM की शुरुवात दिल्ली सरकार ने अपने स्कूलों में की थी। यह प्रयोग सफल रहा था।

5.सरकारी कर्मचारियों को बड़ी सौगात देते हुए उनके महंगाई भत्ते 5 फीसदी इजाफे की घोषणा की है। इसके साथ ही कर्मचारियों को अब 12 प्रतिशत के बजाय 17 प्रतिशत महंगाई भत्ता मिलेगा।

6.जोधपुर, अजमेर, अलवर, बूंदी, बीकानेर, भरतपुर, बाड़मेर, चूरू, भरतपुर, धौलपुर, जैसलमेर, सिरोही और उदयपुर के 22 स्मारकों का पुनरुद्धार कराया जाएगा।

7.महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए 100 करोड़ की घोषणा की गई है।

8.स्वास्थ्य सेवाओं के लिए 14 हजार करोड़ से ज्यादा का प्रावधान किया गया है:

9.सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को नजदीकी प्राइवेट अस्पताल में ले जाने पर अस्पताल को इलाज करना अनिवार्य होगा। ऐसा नहीं करने पर अस्पताल के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। इसके लिए जरूरत पड़ी तो कानूनी प्रावधान भी किए जाएंगे।

10. आंगनवाड़ी वर्कर, आशा सहयोगिनी और एएनएम के लिए A3 एप्प विकसित किया जाएगा। 35 लाख से ज्यादा बच्चों, गर्भवती महिलाओं के लिए 800 करोड़ रुपए की राशि से पोषाहार वितरित किया जाएगा। अशोक गहलोत एशियन गेम्स में गोल्ड जीतने पर 3 करोड़, रजत पर 2 करोड़ और कांस्य जीतने पर 1 करोड़ की राशि दी जाएगी। अशोक गहलोत राज्य में 25 हजार नए सोलर पंप लगाए जाएंगे। नए मेडिकल कॉलेजों के निर्माण पर तकरीबन 15 हजार करोड़ का खर्च आएगा, इसमें 40 परसेंट भागीदारी राज्य सरकार की होगी।

READ:  How brain drain in health sector causing damage to India?

बता दें कि पिछले बजट में सरकार की आय और खर्च का जो अनुमान लगाया गया था, उसके मुकाबले काम बहुत कम हुआ है। आय की बात करें तो दिसंबर तक की तीसरी तिमाही तक राजस्व आय का सिर्फ 61.65 प्रतिशत लक्ष्य ही पूरा हो पाया था। इसमें भी करों से होने वाली आय सिर्फ 58.19 प्रतिशत ही थी। वहीं, खर्च की बात करें तो कुल बजट अनुमानों की 60 प्रतिशत राशि खर्च की गई थी।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।