कांग्रेस के चुनावी विज्ञापन में शामिल इंद्रधनुष के मायने

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट। न्यूज़ डेस्क

2019 का लोकसभा चुनाव कई मायनों में पिछले चुनावों से अलग है। इस बार भाजपा दोबारा सत्ता में आने के लिए संघर्ष कर रही है, तो कांग्रेस अपना अस्तित्व बचाने की कोशिश में लगी हुई है। भाजपा जहाँ सबका साथ सबका विकास के साथ हिंदुत्व को मुद्दा बनाकर चुनाव मैदान में है, तो वहीं कांग्रेस नफरत की राजनीति के खिलाफ प्रेम, एकता, और भारतीय समाज की विविधता को बनाए रखने का संदेश लेकर मैदान में है।

अल्पसंख्यकों और पिछड़ों को साथ लेकर चलने का दावा करने वाली कांग्रेस इस बार अपने चुनावी विज्ञापन में LGBTQ समुदाय को भी साथ लेकर चलने का वादा करती दिख रही है।

भारत में यह पहली बार है जब किसी राजनैतिक पार्टी ने अपने चुनावी विज्ञापन में LGBT समुदाय को शामिल किया है। हाल ही में जब सुप्रीम कोर्ट ने समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटाया तब भी कांग्रेस ने इस कदम का खुल कर स्वागत किया वहीं अन्य पार्टियां इससे बचती दिखाई दी। कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में भी LGBT समुदाय को न्याय दिलाने का वादा किया है।

भारत में समलैंगिक समुदाय को सुप्रीम कोर्ट ने अपने ऐतिहासिक फैसले में आज़ादी तो दे दी। लेकिन भारतीय समाज को LGBT समुदाय को सहजता से अपनाने में वक्त लगेगा।

राजनैतिक पार्टियां इस काम में अहम भूमिका निभा सकती हैं। कांग्रेस के विज्ञापन में शामिल LGBT समुदाय का इंद्रधनुष, लैंगिक समानता के सम्मान में बढ़ाया गया पहला राजनैतिक कदम है।