Rahul Bajaj on lynching

अमित शाह के सामने कहा ‘आपकी सरकार में भय का माहौल’

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

बजाज ग्रुप के चेयरमैन राहुल बजाज ने एक कार्यक्रम में देश में हो रही लिंचिंग की घटनाओं और साध्वी प्रज्ञा द्वारा संसद में गोडसे को देशभक्त बताए जाने पर निराशा जताई। उन्होने यह बात इकोनॉमिक टाईम्स के एक कार्यक्रम में कही जहां गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सितारमन और पीयूष गोयल भी मंच पर मौजूद थे। राहुल बजाज ने कहा कि उद्योग जगत के लोगों में हिम्मत नहीं है कि वे मौजूदा केंद्र सरकार की आलोचना कर सके। जब देश में यूपीए की सरकार थी तब हर कोई सरकार की आलोचना कर सकता था। लेकिन अब एक भय का माहौल है, जहां कोई भी मोदी सरकार की आलोचना करने से डरता है। राहुल बजाज ने कहा कि आप लोग अच्छा काम कर रहे हैं, लेकिन फिर भी हम आपकी खुलेआम आलोचना करें तो हमें नहीं लगता की आप उस पर ध्यान देंगे और उसे सुधारने का प्रयास करेंगे।

इस कार्यक्रम में मुकेश अंबानी, कुमार मंगलम बिरला और सुनील मित्तल भारती भी मौजूद थे। राहुल बजाज ने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा नेशनल इकोनॉमिक कॉन्क्लेव में कही बात पर चिंता व्यक्त की। मनमोहन सिंह ने कहा था कि देश और समाज में भय का माहौल है। राहुल बजाज ने कहा कि मौजूदा दौर में अगर उद्योगपति सरकार की आलोचना करें तो अधिकारी उनके कामों में रोड़ा अटकाने लगते हैं।

कार्यक्रम में मौजूद अमित शाह ने राहुल बजाज को जवाब देते हुए कहा कि लिंचिंग हर सरकार के दौरान होती रही है। कई लोगों पर कार्यवाही भी हुई लेकिन मीडिया वाले उसे छापते नहीं है। आलोचना के जवाब में अमित शाह ने कहा कि देश में भय का महौल नहीं है, अगर आप कोई सुझाव देंगे तो सरकार उस पर ज़रुर सोचेगी। मोदी सरकार की भरपूर आलोचना की जाती है। किसी को डरने की ज़रुरत नहीं है।