अमूल दूध : 6 रुपए तक बढ़े दाम, फिर भी अमूल दूध पीता है इंडिया

टीवी का एक विज्ञापन तो आपको याद ही होगा, नहीं है? तो हम याद दिला देते हैं…विज्ञापन कुछ ऐसा है… अमूल दूध पीता है इंडिया…. इन दिनों काफी चर्चा में है। चर्चा विज्ञापन को लेकर नहीं है बल्कि दूध के दाम बढ़ने को लेकर है।

गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन संघ (JCMMF) ने मंगलवार को इस दाम बढ़ाने का ऐलान किया है। संघ ने एक बार फिर अमूल दूध के दाम में 2 रुपए का इजाफा। आठ माह बाद यह दूसरी बढ़ोत्तरी है। इससे पहले जुलाई 2021 में अमूल दूध के दाम बढ़ाए गए थे।

गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन संघ  वर्ष 2019 के दिसंबर माह में 2 रुपए दाम बढ़ा चुका है। इस तरह से कोरोना वायरस की पहली लहर से प्रभावित वर्ष 2020 में दाम नहीं बढ़ाए गए। कुल मिलाकर कोरोना प्रभावित वर्ष को छोड़ दिया जाय तो तीन सालों में तीन बार में छह रुपए तक दाम बढ़ाए जा चुके हैं। 

अमूल दूध के क्यों बढ़ा रहे दाम ?

अमूल दूध का उत्पादन करने वाली इकाई गुजरात सहकारी दूध विपणन संघ (जीसीएमएमएफ) ने कहा कि  अमूल ने फ्रेश दूध की कीमतों में प्रति वर्ष मात्र चार फीसदी का ही इजाफा किया कर रहा है।

27 फरवरी को जारी विज्ञप्ति ने जीसीएमएमएफ ने कहा था कि बिजली, परिवहन, पशुओं की खुराक की लागत के खर्चे के कारण दूध के उत्पादन का भी खर्चा बढ़ा है। यही कारण है कि अमूल ने किसानों से दूध खरीद की कीमतों में 35 रुपये से 40 रुपए प्रति लीटर फैट की वृद्धि की है। यह बढ़ोतरी पिछले साल की तुलना में 5 प्रतिशत ज्यादा है। 

देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनी

अमूल का पूरा नाम आणंद मिल्क यूनियन लिमिटेड है। यह गुजरात राज्य के आणंद जिले में स्थापित है। अमूल आज देश की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनी है। इसके साथ  18500 गांवों की छोटी छोटी दुग्ध समितिया हैं। साथ ही करीब 80 डेयरी प्लांट हैं और करीब 50 हजार करोड़ रुपए का सालाना टर्नओवर भी है।  

76 साल पहले हुई थी स्थापना

जिस अमूल दूध का नाम आज हर जुबान पर है उस टेस्ट ऑफ इंडिया वाली कंपनी की स्थापना आज से 76 साल पहले की गई थी। 14 दिसम्बर 1946 में डॉ वर्गीज़ कुरियन और त्रिभुवन पटेल ने स्थापना की थी। तब 250 लीटर प्रति दिन के उत्पादन की क्षमता थी।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitterInstagram, and Whatsapp and Subscribe to our YouTube channel. For suggestions and writeups mail us at GReport2018@gmail.com 

ALSO, READ