अब हेट स्पीच वाले संतों ने बीजेपी के सीएम के खिलाफ खोला मोर्चा, बताया ‘जिहादी एजेंट’

हरिद्वार धर्म संसद मामले में जैसे ही गिर्फ्तारियां शुरु हुई है। हेट स्पीच देने वाले संतों ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को निशाना बनाना शुरु कर दिया है। एक वायरल वीडियो में प्रबोधानंद जिसने हरिद्वार धर्म संसद में मुस्लिमों के नरसंहार का आह्वान किया था, पुष्कर सिंह धामी को जेहादियों का एजेंट बता रहा है।

प्रबोधानंद का कहना है कि पुष्कर सिंह धामी ने संतों के खिलाफ ऐफआईआर करवाकर हिंदू धर्म का अपमान किया है। वो जेहादियों का एजेंट हो गया है। मुख्यमंत्री अहंकार में डूबा हुआ है, उसने संतो के खिलाफ पहले झूठी एफआईआर लिखवाई फिर गिरफ्तारियां शुरु करवाई। वो संतो को धमकाने का काम कर रहा है, उसे सबक सिखाना ज़रुरी है। प्रबोधानंद यहीं नहीं रुका उसने कहा कि पुष्कर धामी उत्तराखंड छोड़कर चले जाएं, हमे शक है कि वो देवभूमि से है वो नर्कभूमी से आए मुख्यमंत्री हैं।

एक और वीडियो में प्रबोधानंद कहता दिख रहा है कि मुख्यंत्री स्वयं हमारी हत्या करवाना चाहता है। पता नहीं मुख्यमंत्री किसके ईशारे पर यह सब करवा रहा है। प्रबोधानंद वीडियो में कहता दिख रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक हमारे यहां आकर मत्था टेकता है, उसे हमने सारा मामला बताया लेकिन मुख्यमंत्री उसकी भी नहीं सुनते। वो इस मामले में प्रधानमंत्री से जांच की मांग करने को कह रहा है, प्रबोधानंद को शक है कि मुख्यमंत्री जेहादियों के इशारे पर काम कर रहे हैं और भाजपा को हरवाने का षडयंत्र कर रहे हैं।

आपको बता दें कि हरिद्वार में धर्म संसद आयोजित की गई थी जिसमें यति नरसिंहानंद और प्रबोधानंद जैसे हिंदू संतो ने हेट स्पीच दी थी और महात्मा गांधी का अपमान किया था। इसके वीडियों जब वायरल हुए तो सरकार पर इन पर कार्रवाई करने का दबाव बढ़ने लगा। सुप्रीम कोर्ट ने भी मामले का संज्ञान लेते हुए इस पर ऐक्शन के लिए कहा जिसके बाद अब तक यति नरसिंहानंद, अभी अभी मुस्लिम से हिंदू बने जितेंद्र नारायण त्यागी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस मामले पर सरकार घिरी हुई है। सोशल मीडिया पर ट्रोल्स प्रबोधानंद के समर्थन में उतर आएं हैं और पुष्कर धामी के खिलाफ हैशटैग चला रहे हैं।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitterInstagram, and Whatsapp and Subscribe to our YouTube channel. For suggestions and writeups mail us at GReport2018@gmail.com