सरकार के कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ Prakash Singh Badal ने लौटाया अपना पद्म विभूषण सम्मान

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कृषि कानून(Farm Laws) के ख़िलाफ़ किसानों के आंदोलन का आज आठवाँ दिन है। किसान अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं। इसी बीच किसानों के समर्थन में और कृषि कानून के खिलाफ आज पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल(Prakash Singh Badal) ने अपना पद्म विभूषण सम्मान लौटा दिया है। उनको(Prakash Singh Badal) ये सम्मान 2015 में दिया गया था। किसानों के इस आंदोलन को देशभर से समर्थन मिल रहा है। लेकिन जैसे जैसे दिन गुज़र रहे हैं यह आंदोलन और मज़बूती के साथ आगे बढ़ता दिखाई दे रहा है।

‘Indian Media Is Anti-Farmers’, Says This Twitter Trend

READ:  'जनता को इतना निचोड़ दो की जिंदा रहने को ही विकास समझे'

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल(Prakash Singh Badal) के सम्मान लौटाने के बाद, अब अकाली दल के वरिष्ठ नेता सुखदेव सिंह ढींढसा ने भी अपना पद्म विभूषण लौटाने की बात कही है। अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल ने भी इससे पहले कैबिनेट से इस्तीफ़ा देकर एनडीए का साथ छोड़ दिया था। पंजाब के लगभग सभी गायक और पंजाब फिल्म इंडस्ट्री के कई अभिनेताओं ने किसानों का पूर्ण समर्थन किया है।

अमित शाह की शर्त किसानों ने ठुकराई, कहा खुली जेल में डालना चाहती है सरकार

हालांकि आपको बता दें कि आज सरकार और किसानों के बीच इस मुद्दे को सुलझाने को बैठक चल रही है। पहले तीन बार दोनों पक्षों के बीच बैठक हो चुकी है, लेकिन तीनो बार कोई ख़ास समाधान नहीं निकल सका। यह बैठक विज्ञान भवन में चल रही है। दूसरी बार हुई बैठक में सर्कार ने किसानो को आश्वासन दिया था कि एक समिति बनायी जाए जो इस मुद्दे पर विचार करेगी। लेकिन किसानों ने यह साफ़ कर दिया था कि जब तक सरकार इस काले कानून को वापस नहीं लेती तब तक किसान संघर्ष में जुटे रहेंगे।

READ:  UP : सीतापुर में गैस रिसाव से एक ही परिवार के 7 लोगों की मौत

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at [email protected] to send us your suggestions and writeups.