Home » HOME » प्रधानमंत्री जन सम्मान योजना: घर बैठे मोदी जी आपके खाते में 90 हज़ार नहीं डालने वाले

प्रधानमंत्री जन सम्मान योजना: घर बैठे मोदी जी आपके खाते में 90 हज़ार नहीं डालने वाले

pradhanmantri jan samman yojna is a fake news
Sharing is Important

सोशल मीडिया न हुआ फेक न्यूज़ का जंजाल हो गया। लोगों के वॉट्सएप पर मेसेज आया कि जी बढ़ती बेरोजगारी को देखते हुए इस नवरात्र पर केंद्र सरकार बेरोजगारों को देगी प्रधानमंत्री जन सम्मान योजना के तहत घर बैठे रोजगार का मौका। पिछले कई दिनों से एक  यूट्यूब वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें कहा जा रहा है कि केंद्र सरकार सभी के बैंक खातों में ‘प्रधानमंत्री जन सम्मान योजना’ के तहत 90,000 रुपये की राशि जमा कर रही है। इन दोनों दावों का जब PIB ने Fact Check किया तो पता चला दोनों दावे फर्जी हैं। 

ALSO READ: पीएम मोदी की संपत्ति का खुलासा, जानिए कहां-कहां किया पैसा निवेश?

प्रधानमंत्री जन सम्मान योजना फेक न्यूज़ है

PIB Fact Check ने पड़ताल कर बताया है कि यह दावा झूठा है। केंद्र सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है।  Tweet के मुताबिक एक YouTube वीडियो में यह दावा किया जा रहा है कि केंद्र सरकार सभी के बैंक खातों में ‘प्रधानमंत्री जन सम्मान योजना’ के तहत ₹90,000 की राशि जमा कर रही है। केंद्र सरकार द्वारा ऐसी कोई योजना नहीं चलाई जा रही है। अगर आपके पास भी ऐसा ही कोई मेसेज आया है तो चौकन्ने हो जाईए, और ऐसे ही किसी पोस्ट में आए लिंक पर क्लिक कर भटकने का प्रयास मत ही कीजिएगा। ज़रा दिमाग लगाईए भला घर बैठे काहे आपको 90 हज़ार मिलेगा? सरकार से तो ऐसी उम्मीद कीजिएगा भी नहीं क्योंकि देश की माली हालत वैसे ही खराब है।

READ:  सावधान! ATM कार्ड से खरीदते हैं शराब, तो लग सकता है लाखों का चूना

अब ऐसा मेसेज दिखाई दे तो करें शिकायत

 बता दें कि सरकार से जुड़ी कोई खबर सच है या फर्जी, यह जानने के लिए PIB Fact Check की मदद ली जा सकती है। कोई भी व्यक्ति PIB Fact Check को संदेहात्मक खबर का स्क्रीनशॉट, ट्वीट, फेसबुक पोस्ट या यूआरएल वॉट्सऐप नंबर 918799711259 पर भेज सकता है या फिर pibfactcheck@gmail.com पर मेल कर सकता है। ठीक है अगर अब आपके पास ऐसा कोई पोस्ट आई जिसकी सच्चाई आपको जाननी हो तो तुरंत उपर दिए नंबर पर मेसेज फॉरवर्ड मार दें। जबतक सच न पता चले दना-दन 10 लोगों को भेजने की गलती न करें। समझ गए ना?

READ:  अभिव्यक्ति की आज़ादी पर मंड़राते ख़तरे को पहचानना ज़रूरी…!

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।