समीक्षा बैठक

कोरोना पर प्रधानमंत्री और गृह मंत्री ने की समीक्षा बैठक, मुख्यमंत्रियों को दिए ये निर्देश

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी की स्थिति की समीक्षा करने के लिए मंगलवार यानी की 24 नवंबर को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की, जहां उन्होंने सभी को कोरोनावायरस वैक्सीन के लिए कोल्ड स्टोरेज सुविधा जल्द से जल्द उपलब्ध कराने पर काम शुरू करने के लिए कहा।

प्रधानमंत्री ने ये भी कहा की महामारी के खिलाफ इस्तेमाल की जाने वाली वैक्सीन जो की भारत अपने नागरिकों के लिए प्राप्त करेगा, वह “सभी वैज्ञानिक मानकों” पर सुरिक्षत व सफल होगी ।राज्यों के साथ सामूहिक समन्वय में टीका वितरण करने की रणनीति को  तैयार किया जाएगा । पीएम मोदी ने बैठक में कहा कि राज्यों को भी कोल्ड स्टोरेज की सुविधा शुरू करनी चाहिए।

READ:  झाँसी में कोरोना खतरनाक स्तर पर, जिला जेल में 210 कैदी संक्रमित

पीएम मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक काफी अहम मानी जा रही है क्योकिं इस वक़्त तक भारत में कोरोना के कुल 9.17 मिलियन केस आ चुके है ।  हालांकि देश में रिकवरी की अच्छी दर दर्ज की जा रही है, फिर भी पूरे भारत में कोविड -19 मामलों में उछाल जारी है।

“रिकवरी की अच्छी दरों को देखते हुए, कई लोग सोचते हैं कि वायरस कमजोर है और वह जल्द ही ठीक भी  हो जाएंगे, इस वजह से लापरवाही भी बढ़ रही है …  लेकिन हमें यह सुनिश्चित करने पर ध्यान देने  की आवश्यकता है कि लोग सतर्क रहें और संचरण पर अंकुश लगा बना रहे । प्रधान मंत्री ने ये भी कहा की हम रिकवरी दर को 5% से कम पर लाना चाहते हैं।

READ:  कोरोना मुक्त हो चुका था त्रिपुरा फिर 40 नए मामले कहां से आए?

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह जो की  इस बैठक में शामिल थे, उन्होंने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से कहा कि कोरोनोवायरस रोग के मामलों में वृद्धि देखी जा रही है और निर्देश/अनुरोद्ध किया की कोविड -19 की मृत्यु दर 1% से कम हो और नए मामले 5% से अधिक न हों।

शाह ने मुख्यमंत्रियों को सबसे महत्वपूर्ण कदम बताया, की, कन्टेनमेंट जोन को और “डायनामिक” बनाया जाए। उन्होंने कहा कि अधिकारियों को हर हफ्ते रेड जोन वाले क्षेत्रों का दौरा करना चाहिए और एकत्र किए गए आंकड़ों के आधार पर किसी विशेष क्षेत्र की स्थिति की विशेष रणनीति बनानी चाहिए। वर्तमान में, नियंत्रण क्षेत्रों से डेटा को पखवाड़े यानी की 14 दिन के रूप से एकत्र किया जाता है। केंद्रीय गृह मंत्री ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि वह लक्ष्यों को जल्द से जल्द हासिल करने के लिए अपनी क्षमता से सब कुछ करें।

READ:  How Bihar is dealing with Covid?

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at [email protected] to send us your suggestions and writeups.