जो इस देश की मिट्टी के मुसलमान हैं, उन्हें NRC-CAA से डरने की ज़रुरत नहीं है: पीएम मोदी

ग्राउंड रिपोर्ट । न्यूज़ डेस्क

प्रधानमंत्री मोदी ने नागरिकता संशोधन कानून CAA और NRC की वजह से फैली हिंसा पर रामलीला मैदान में खुल कर जवाब दिया। उन्होंने नागरिकता संशोधन और एनआरसी को लेकर फैलाई जा रही अफवाह के लिए विपक्षियों पर निशाना साधा। प्रधानमंत्री मोदी ने डिटेंशन सेंटर बनाए जाने वाली बात को अफवाह बताया और कहा कि यह अर्बन नक्सल भ्रम फैला रहे हैं।

पीएम मोदी के भाषण की बड़ी बातें-

1.नागरिकता संशोधन बिल के पास होने के बाद कुछ राजनीतिक दल तरह-तरह की अफवाहें फैलाने में लगे हैं, लोगों को भ्रमित कर रहे हैं, भावनाओं को भड़का रहे हैं।

2.लोग कागज-कागज, सर्टिफिकेट-सर्टिफिकेट के नाम पर मुस्लिमों को भ्रमित कर रहे हैं, उन्हें ये याद रखना चाहिए कि हमने गरीबों की भलाई के लिए, योजनाओं के लाभार्थी चुनते समय कभी कागजों की बंदिशें नहीं लगाईं।

3.स्कूल बसों पर हमले हुए, ट्रेनों पर हमले हुए, मोटर साइकिलों, गाड़ियों, साइकिलों, छोटी-छोटी दुकानों को जलाया गया है, भारत के ईमानदार टैक्सपेयर के पैसे से बनी सरकारी संपत्ति को खाक कर दिया गया है।इसके बाद इनके इरादे कैसे हैं, ये देश अब जान चुका है।

4.मोदी को देश की जनता ने बैठाया, ये अगर आपको पसंद नहीं है,तो आप मोदी को गाली दो, विरोध करो मोदी का पुतला जलाओ। लेकिन देश की संपत्ति मत जलाओं, गरीब की रिक्शा मत जलाओं, गरीब की झोपडी मत जलाओं।

Also Read:  When will CAA-NRC be implemented in India?

5.पुलिस वालों को अपनी ड्यूटी करते समय हिंसा का शिकार होना पड़ रहा है। जिन पुलिसवालों पर ये लोग पत्थर बरसा रहें हैं, उन्हें जख्मी करके आपको क्या मिलेगा?

6.झूठ बेचने वाले, अफवाह फैलाने वाले इन लोगों को पहचानने की ज़रूरत है। ये 2 तरह के लोग हैं।एक वो लोग जिनकी राजनीति दशकों तक वोटबैंक पर ही टिकी रही है। दूसरे वो लोग जिनको इस राजनीति का लाभ मिला।

7.नागरिकता संशोधन कानून भारत के किसी नागरिक के लिए, चाहे वो हिंदू हो या मुसलमान, के लिए है ही नहीं। ये संसद में बोला गया है। ये कानून का इस देश के अंदर रह रहे 130 करोड़ लोगों से कोई वास्ता नहीं है।

8.कांग्रेस और अर्बन नक्सलियों द्वारा उड़ाई गई डिटेन्शन सेंटर की अफवाह सरासर झूठ हैं। जो हिंदुस्तान की मिट्टी के मुसलमान हैं, उनसे नागरिकता कानून और NRC दोनों का ही कोई लेना-देना नहीं है।

9. एनआरसी पर प्रधानमंत्री ने कहा कि अभी तो इसके बारे में कोई चर्चा ही नहीं हुई है। न कैबिनेट में प्रस्ताव पास हुआ न संसद में बिल आया फिर एनआरसी पर अफवाह क्यों?