Home » HOME » जिन राज्यों में कोरोना के अधिक केस, वहां जारी रहेगा लॉकडाउन !

जिन राज्यों में कोरोना के अधिक केस, वहां जारी रहेगा लॉकडाउन !

PM Modi corona second wave
Sharing is Important

कोरोना वायरस महामारी संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात की । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ 38 दिन में हुई चौथी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में थी । तीन घंटे चली चर्चा में नौ मुख्यमंत्रियों को बात रखने का मौका मिला। इस बैठक में पीएम मोदी ने लॉकडाउन खोलने को लेकर चर्चा की और कहा कि इसपर एक नीति तैयार करनी होगी, जिसपर राज्य सरकार को विस्तार से काम करना होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बैठक में कहा कि राज्य सरकार अपनी नीति तैयार करें और किस तरह लॉकडाउन को खोला जाए। इसमें रेड, ग्रीन और ऑरेंज जोन में राज्य अपने इलाकों में लॉकडाउन को खोला जा सकता है। जिन राज्यों में अधिक केस है, वहां लॉकडाउन जारी रहेगा, जिन राज्यों में केस कम है वहां जिलेवार राहत दी जाएगी। ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक की जगह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में शामिल हुए राज्य के स्वास्थ्य मंत्री नभ दास ने तो लॉकडाउन एक महीने बढ़ाने का सुझाव दे दिया। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा और गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने भी कहा कि वे 3 मई के बाद लॉकडाउन जारी रखना चाहते हैं।

READ:  अभिव्यक्ति की आज़ादी पर मंड़राते ख़तरे को पहचानना ज़रूरी…!

गौरतलब है कि कोरोना वायरस संकट की वजह से देश में 3 मई तक का लॉकडाउन लागू है। इस बीच आगे की रणनीति को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा की । इसमें कई राज्यों की ओर से लॉकडाउन को आगे बढ़ाने और फेज़ वाइज़ लॉकडाउन हटाने का प्रस्ताव रखा । मोदी ने कहा कि वायरस अभी भी गया नहीं है। यह अभी आने वाले महीनों में भी रहेगा। लगातार निगरानी बहुत जरूरी है। मास्क और फेस कवर हमारी जिंदगी का हिस्सा बन जाएंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई के साथ-साथ अर्थव्यवस्था को भी अहमियत देनी होगी। इसी के साथ टेक्नोलॉजी के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल और सुधार के कदमों पर भी जोर देना होगा।

READ:  दिल्ली से छत्तीसगढ़ जा रही दुर्ग एक्सप्रेस की 4 बोगियों में लगी आग, देखें वीडियो

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।