प्रधानमंत्री मोदी ने किया नये संसद भवन का भूमिपूजन

‘नया संसद भवन आत्मनिर्भर भारत के निर्माण का गवाह बनेगा’

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

प्रधानमंत्री मोदी ने आज नए संसद भवन का भूमिपूजन करते हुए कहा कि नया संसद भवन आत्मनिर्भर भारत के निर्माण का गवाह बनेगा। पुराने भवन में देश की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए काम हुआ, तो नए भवन में 21वीं सदी के भारत की आकांक्षाएं पूरी की जाएंगी। 

प्रधानमंत्री मोदी के भाषण की अहम बातें-

-पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के समय किस तरह से एक लोकतांत्रिक राष्ट्र के रूप में भारत के अस्तित्व पर संदेह जताया गया था। अशिक्षा, गरीबी, सामाजिक विविधता सहित कई तर्कों के साथ ये भविष्यवाणी कर दी गई थी कि भारत में लोकतंत्र असफल हो जाएगा।

READ:  किसानों के साथ चलें राहुल गांधी और खाली सुरंग में हाथ हिलाए प्रधानमंत्री मोदी: कुणाल चौधरी

-पुराने भवन में देश की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए काम हुआ, तो नए भवन में 21वीं सदी के भारत की आकांक्षाएं पूरी की जाएंगी। 

-पुराने संसद भवन ने स्वतंत्रता के बाद के भारत को दिशा दी, तो नया भवन आत्मनिर्भर भारत के निर्माण का गवाह बनेगा। 

-आज इंडिया गेट से आगे नेशनल वॉर मेमोरियल ने नई पहचान बनाई है, वैसे ही संसद का नया भवन अपनी पहचान स्थापित करेगा।

-आने वाली पीढ़ियां नए संसद भवन को देखकर गर्व करेंगी कि ये स्वतंत्र भारत में बना है। आजादी के 75 वर्ष का स्मरण करके इसका निर्माण हुआ है।

-हम भारत के लोग मिलकर अपनी संसद के इस नए भवन को बनाएंगे। और इससे सुंदर क्या होगा, इससे पवित्र क्या होगा कि जब भारत अपनी आजादी के 75 वर्ष का पर्व मनाए, तो उस पर्व की साक्षात प्रेरणा, हमारी संसद की नई इमारत बने।

READ:  सेक्स के लिए कुर्सी से बांधे हाथ-पांव, एक गलती से हो गई मौत

-नए संसद भवन का निर्माण 2022 तक पूरा करेंगे। उन्होंने कहा कि 2022 का शीतकालीन शर्त नए संसद भवन में ही होगा।

ALSO READ: Central Vista Project: नये संसद के लिए प्रत्यारोपित होंगे 404 पेड़

ALSO READ: All You Need To Know About India’s New Parliament

क्या खास होगा नए संसद भवन में?

-नया संसद भवन कई मायने में खास बनने जा रहा है। इसे बनाने में 900 करोड़ से अधिक रुपए खर्च होंगे। नए संसद भवन को प्रदूषण मुक्त और पेपरलेस ऑफिस से सुसज्जित किया जाएगा।

ऐसी दिखेगी नई संसद

-नए संसद भवन का डिजाइन अहमदाबाद के मैसर्स एचसीपी डिजाइन और मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड द्वारा तैयार किया गया है और इसका निर्माण टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड द्वारा किया जाएगा।

READ:  कोरोना की जंग लड़ने के लिए बना पीएम केयर फंड, पीएम मोदी ने की मदद की अपील

-नए भवन को सभी आधुनिक दृश्य- श्रव्य संचार सुविधाओं और डाटा नेटवर्क प्रणालियों से सुसज्जित किया जाएगा।

नए संसद भवन के लोकसभा कक्ष में 888 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी, जिसमें संयुक्त सत्र के दौरान 1224 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था भी होगी।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।