Home » तमिलनाडु: असामाजिक तत्वों ने पेरियार की मूर्ति पर डाला भगवा रंग

तमिलनाडु: असामाजिक तत्वों ने पेरियार की मूर्ति पर डाला भगवा रंग

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

शुक्रवार को तमिलनाडु के कोयंबटूर के सुन्दरपुरम में लगी द्रविड़दारी विचारधारा और सोशल एक्टिविस्ट पेरियार ईवी रामास्वामी की मूर्ति पर कुछ असामाजिक तत्वों ने भगवा रंग डाल दिया. जिसके बाद मूर्ति के आस – पास के इलाकों में तनाव का माहौल-सा बन गया था. स्थानीय लोगों और राजनीतिक पार्टी के सदस्यों ने मूर्ति के पास जमा होकर विरोध प्रदर्शन किए और इस घटना के पीछे के असामाजिक तत्वों को पकड़ने की मांग की. पुलिस डिप्टी कमिश्नर जी. स्टालिन ने घटना-स्थल पर पहुंच कर प्रदर्शनकारियों को उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कारवाई करने को आश्वासन दिया है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक, ये घटना सुबह 6 बजे के आस-पास हुई थी.

READ:  Coronavirus: भाप लेने का सही तरीका अपनायें, कोरोना को दूर भगाएं!

डीएमके विधायक एन कार्तिक ने इस घटना की निंदा की और पुलिस से अपराधियों को पकड़ने की मांग की है.

तूतूकुड़ी से डीएमके की संसद कनिमोझी ने इस घटना की निंदा करते हुए ट्वीट किया “उनके निधन के दशकों के बाद भी पेरियार ही है, जो कहानी को सेट करते हैं. वह सिर्फ एक मूर्ति  नहीं है, बल्कि आत्मसम्मान और सामाजिक न्याय का मार्ग है जो उन लोगों के लिए भी जिन्होंने इन्हें रंगा हैं.”

पेरियार ईवी रामास्वामी नास्तिक थे. उन्होंने हिंदू रुढ़ियों के खिलाफ दक्षिण भारत में द्रविड़ आंदोलन की शुरुआत की थी. इससे पहले भी पेरियार की मूर्ति को क्षतिग्रस्त किया गया है. इसी वर्ष जनवरी में तमिलनाडु में पेरियार ईवी रामास्वामी की मूर्ति तोड़ी गई थी. जिसके बाद काफी विवाद हुआ था. इसके अलावा पिछले साल सिंतबर में तमिलनाडु के धर्मपुरी जिले के हरुर में पेरियार की जयंती पर कुछ युवकों ने गोबर का केक काटने का वीडियो बना कर फेसबुक पर डाला था. वर्ष 2018 में तमिलनाडु के तिरुपुर में ईवी रामास्वामी की मूर्ति पर किसी वकील ने एक जोड़ी जूते डाले थे.

READ:  Coronavirus Covid19 infection time: संक्रमित व्यक्ति के साथ कितनी देर रहने में होगा कोरोना

Written By Kirti Rawat, She is Journalism graduate from Indian Institute of Mass Communication New Delhi

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।