पीपल बाबा ने उदाहरण पेश कर बताया, कैसे वर्षा जल को सरंक्षित कर वर्षों तक उपयोग किया जा सकता है

peepal baba rain water
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश-दुनिया के जाने-माने पर्यावरणविद प्रेम परिवर्तन यानी पीपल बाबा बता रहे हैं कि कैसे वर्षा जल को संरक्षित कर सालों-साल उपयोग में लाया जा सकता है। उनके मुताबिक तालाब बनाने की प्रक्रिया finishing, water pit, composting और हैंडपम्प लगाने के साथ-साथ ही शुरू होती है। पूरे जंगल में पानी के लिए मात्र एक तालाब सबसे ज्यादे ढलान वाली जगह पर जहाँ पर gradients ज्यादे होते हैं, बनाया जाता है। तालाब के 10% हिस्से पर जलकुम्भी लगाई जाती है इससे मिट्टी तालाब में आने से रुक जाता है (लेकिन जलकुम्भी के ज्यादे हो जाने पर तालाब में कार्बन डाई ऑक्साइड बढ़ जाता है इसलिए समय समय पर जलकुम्भी को साफ किया जाता है)।

पर्यावरण दिवस विशेष: ‘कोरोना काल’ में भी लगाते रहे पेड़, पिछले 43 वर्षों से जारी है पीपल बाबा का सफर!

घांस करती है वाटर फिल्टर का काम
तालाब के सभी किनारों पर घास और पेड़ भी लगाए जाते हैं ये मिट्टी को जकड़ कर रखते हैं। तालाब में मिट्टी को जाने से रोकते भी हैं यहाँ पर मुख्य बात यह है कि पीपल बाबा तालाब के एंट्री पॉइंट्स पर अम्ब्रेला पोम नामक घास लगाती यह यह घास वाटर फ़िल्टर का काम करती है। गौरतलब है कि अम्ब्रेला- पोम नामक घास पूरी दुनियां में पायी जाती है लेकिन जापान में इसका प्रयोग तालाब के जल के शुद्दिकरण के लिए खूब किया जाता है। शुरुवाती समय में हैंडपम्प और water टैंकर से पौधों को पानी पिलाया जाता है लेकिन धीमे धीमे जैसे जैसे पेड़ बड़े होने लगते हैं वैसे वैसे water टैंकर जंगलों के बीच नहीं आ पाते तब तक (2-3सालों में) तालाब तैयार हो जाते हैं।

कोरोना योद्धाओं की तरह पीपल बाबा के ‘पर्यावरण योद्धा’ दिन-रात कर रहे हैं पर्यावरण संवर्धन का काम

पीपल बाबा की तालाब बनाने की प्रक्रिया
पीपल बाबा कहते हैं कि जिस दिन से जंगल लगाने का कार्य शुरू होता है उसी दिन से इन जंगलों के सबसे ढलान वाली ऐसी जगह पर तालाब बनाने की प्रक्रिया की शुरुआत हो जाती है जहाँ पर चारों तरफ से पानी आकर रुके और इस तालाब के एंट्री पॉइंट्स पर अम्ब्रेला पोम (अम्ब्रेला पोम पूरे विश्व में पाया जाता है लेकिन जापानी लोग इसका खूब उपयोग करते हैं।) के पौधे लगाए जाते हैं इन पौधों की जड़ो से होकर गुजरने पर यह जल शुद्ध हो जाता है। 3-4 सालों में वर्षा जल प्राप्त करते हुए ये तालाब सालों साल पानी से भरे रहने लगते हैं इसका कारण हर साल हो रहे जलसंचयन की वजह से जमीन का जलस्तर काफ़ी ऊँचे उठ जाता है। और भूमिगत जल से ये तालाब हमेशा स्वतः चार्ज होते रहते हैं।

पीपल बाबा का ये सुझाव अर्थव्यवस्था और पर्यावरण सुधार में लगा सकता है ‘चार चांद’

एंट्री पॉइंट पर अम्ब्रेला पोम
इन्हीं तालाबों के माध्यम से इन जंगलों को कोरोना काल में वाटर टैंकरों की पूरी हो रही अबाध जल आपूर्ति। देश के प्रख्यात पर्यावरण कर्मी पीपल बाबा ने गिरते जलस्तर और पानी के टैंकरो की अनुपलब्धता के बीच जंगलों के बीच पेड़ पौधों को पानी पिलाने के लिए जलसंरक्षण की अनूठी तकनीकी अपनायी हैं। पीपल बाबा ने जलसंरक्षण के लिए जंगलों के बीच हर ढलान वाली जगह के सबसे निचले विन्दु पर तालाब और जंगलों के बीच ढेर साडी जगहों पर छोटे छोटे गड्ढे बनाया है। इसमें आसानी से पानी जमा होता रहता है 3-4 साल में जलस्तर काफ़ी ऊपर आ जाता है गर्मियों में ये छोटे गड्ढे तो सूख जाते हैं लेकिन तालाबों में लबालब पानी भरा रहता है। जंगलों के बीच जगह- जगह पर छोटे गड्ढ़े इसलिए खोदे जाते हैं क्यूकि दूर तालाब और नल से पानी लाने में समय कम लगे।

Peepal Baba: पीपल बाबा के ‘हरित क्रांति’ फार्मूले की 6 खास बातें

मानसून प्रकृति का सबसे अनुकूल मौसम
मानसून का मौसम चल रहा है। इस मौसम में होने वाले झमाझम बारिश पेड़ पौधों से लेकर जीव जंतुओं सबके लिए अनुकूल होता है। इस मौसम में पृथ्वी के सभी जंतुओं और वनस्पतियों का खूब विकास होता है। इस मौसम में अगर हम थोड़ी सक्रियता बरतें तो इसका फायदा सालों साल उठाया जा सकता है जी हाँ बरसात के मौसम में अगर हम जल संरक्षण का काम करें तो भूमिगत जल को ऊपर उठाया जा सकता है साथ ही साथ सालों साल जल की कमी को दूर किया जा सकता है। लेकिन हर साल गिर रहे जलस्तर के बीच इंसान मोटर , समर्सिबल पंप, और इंजन लगाकर जमीन से पानी खींचकर अपना काम चला रहे हैं। जलसंचयन के लिए कार्य न होने की वजह से बर्षा का जल नालियों के रास्ते नदियों में होते हुए समुद्र में विलीन हो जाता है। वर्षा जल संरक्षण और वर्षा जल संचयन की तमाम तकनीकियां पूरी दुनियां में उयलब्ध हैं लेकिन इन तकनीकियों का प्रयोग करने वालों की संख्या काफ़ी कम है। ऐसे प्रयोगों को बड़े स्तर पर बढ़ावा दिए जाने की जरूरत है।

मानसून में पेड़ लगाने और उनकी देखरेख से हरदम रहेगी हरियाली: पीपल बाबा

घटते जल स्तर को बढ़ाने के लिए जरूरी है तालाबों का निर्माण
देश में जल संसाधन मंत्रालय जल के विकास के लिए निरंतर कार्य कर रहा है। इन सरकारी विभागों के अलावा देश में कुछ ऐसे लोग हैं जो जल संरक्षण के लिए अनोखे विधियों से जल संरक्षण के कार्य में लगे हैं। इन सबमें भी महत्वपूर्ण बात यह है कि जंगलों के बीच तालाबों का निर्माण करके पौधों को पानी पिलानें का कार्य किया जाता है। इस सन्दर्भ में देश के नामी पर्यावरणकर्मी पीपल बाबा नें तालाब निर्माण के एक अनोखे विधि का विकास किया है जो घटते जलस्तर के बीच जलस्तर को बढ़ाने के लिए काफी प्रासंगिक है।

Peepal Baba’s suggestion to improve economy and environment

जंगलों के विकास के लिए क्यों जरूरी है तालाब
जैसे जैसे पेड़ बढ़ते हैं इन पेड़ों के बीच water टैंकरों के आने की संभावना घटती जाती है। इसीलिए तालाब और हैंडपम्प की जरूरत होती है। पीपल बाबा की team के अहम् सदस्य जसवीर मलिक बताते हैं कि कोरोना काल में जब lockdown लगा तो पानी के टैंकर बाहर से आने बंद हो गए और प्रचंड गर्मियों में जंगलों के बीच के तालाबों से ही पानी की आपूर्ति सुनिश्चित की गई।

बता दें कि पीपल बाबा देश के हर नागरिक को पर्यावरण संवर्धन कार्य से जोड़ने हेतु हरियाली क्रांति का आधार तैयार कर रहे हैं, पीपल बाबा के इस अभियान से देश के हर हिस्सों से लोग जुड़ रहे हैं । जल संरक्षण के सन्दर्भ में यह बात दीगर है कि पीपल बाबा ने उत्तर प्रदेश में जंगलों के विकास के लिए 30 तालाब बनाएं हैं। पिछले दशक में पीपल बाबा ने उत्तर प्रदेश में नॉएडा के सोरखा गाँव, ग्रेटर नॉएडा के मेंचा और लखनऊ के रहीमाबाद में 15-15 एकड़ के 3 विशाल जंगलों के विकास का कार्य कर रहे हैं। अबतक पूरे देश में पीपल बाबा के नेतृत्व में 2.1 करोड़ से ज्यादे पेड़ लगाए जा चुके हैं इनमें से सबसे ज्यादे पीपल के 1 करोड़ 27 लाख उसके बाद नीम, शीशम.. आदि के पेड़ हैं। पीपल बाबा के पेड़ लगाओ अभियान से अब तक 14500 स्वयंसेवक जुड़ चुके हैं और इनका कारवां देश के 18 राज्यों के 202 जिलों तक पहुँच चुका है। पीपल बाबा आने वाले समय देश के हर व्यक्ति को हरियाली क्रांति से जोड़कर देश पूरे देश को हरा भरा बनाना चाहते हैं इसके लिए पीपल बाबा की team देश में अनेक अभियान चलाने जा रही है। इसी कड़ी में आगामी सितंबर महीने की 1 तारीख से 30 तारीख तक हरिद्वार के ऋषिकेश में पीपल बाबा नीम अभियान चलाने जा रहे हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।