पार्थिव पटेल हुए रिटायर

पार्थिव पटेल हुए रिटायर, जानिए उनके क्रिकेट करियर की खास बातें

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

जनवरी 2017 में गुजरात की टीम ने पार्थिव पटेल की कप्तानी में ही पहली बार रणजी ट्रॉफी टूर्नामेंट जीता था। राष्ट्रीय टीम में विकेट कीपर के तौर पर पहचान बनाने वाले पार्थिव पटेल का करियर उतार चढ़ाव भरा रहा। उन्होंने ट्विटर के ज़रिए अपने रिटायरमेंट की घोषणा की है।

ALSO READ: मोहम्मद कैफ बोले रवींद्र जडेजा को नहीं मिलता सम्मान, जनता बोली आपके साथ भी यही हुआ था

उन्होंने लिखा- मैं खास तौर पर दादा का आभारी हूं। वे मेरे पहले कप्तान हैं। उन्होंने मुझ पर काफी विश्वास जताया। उन्होंने पत्नी अवनी और माता-पिता का भी धन्यवाद दिया। आप मेरी इस यात्रा में मेरे साथ रहे। इसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

READ:  India's failed cricketer who succeeded in politics

पार्थिव पटेल के क्रिकेट करियर की खास बातें

2002 में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट से मैच से डेब्यू करने वाले पार्थिव ने सबसे कम उम्र में बतौर विकेटकीपर टेस्ट में डेब्यू किया था। उनका क्रिकेट करियर 18 साल का रहा।

पार्थिव ने वनडे डेब्यू जनवरी 2003 में न्यूजीलैंड के खिलाफ किया था। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 25 मैच खेले, जिनमें उन्होंने 934 रन बनाए। वनडे करियर में उन्होंने 38 मैच खेलकर 736 रन बनाए । पटेल ने सिर्फ 2 टी20 मैच खेले हैं। वे तीनों फॉर्मेट में शतक नहीं लगा सके।

पार्थिव ने 194 फर्स्ट क्लास मैच खेले हैं। जिसमें 43.39 की औसत से 11,240 रन बनाए हैं। उन्होंने फर्स्ट क्लास मैच में 27 सेंचुरी और 62 फिफ्टी लगाए हैं।

READ:  'MISSION GOLD - India's Quest for Olympic Glory' a must read for sports aficionados

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें [email protected] पर मेल कर सकते हैं।