Home » Parth Shrivastava Suicide Note: मेरी आत्महत्या एक कत्ल है , जिसके जिम्मेदार सिर्फ…

Parth Shrivastava Suicide Note: मेरी आत्महत्या एक कत्ल है , जिसके जिम्मेदार सिर्फ…

Parth Shrivastava Suicide Note
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Parth Shrivastava Suicide Note: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath, Uttar Pradesh) की सोशल मीडिया टीम (CM Yogi Social Media Cell) में काम करने वाले पार्थ श्रीवास्तव (Parth Srivastava Suicide) नाम के एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। आत्महत्या करने वाले शख्स ने दो पेज का सुसाइड नोट (Parth Shrivastava Suicide Note) पहले ट्वीटर पर पोस्ट किया इसके बाद कथित रूप से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पार्थ के सुसाइड नोट को कई लोगों ने ट्वीटर पर पोस्ट किया है। इसमें पार्थ ने अपने साथ हो रही प्रताड़ना का जिक्र किया है। यहां पढ़ें पार्थ ने अपने सुसाइड नोट में क्या लिखा था।

Parth Srivastava Suicide: CM Yogi की Social Media Team में काम कर रहे पार्थ श्रीवास्तव ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में इन पर लगाए गंभीर आरोप

READ:  Kanpur metro news : कानपुर डिपो पहुंचे मेट्रो के तीन कोच, सारी तैयारियों के साथ किया गया स्वागत

पढ़ें पार्थ का सुसाइड नोट-

मैं उम्मीद करता हूं कि Shishir Kumar Sir इस बात पर उचित कारवाई करें। प्रार्थी, पार्थ श्रीवास्तव।

प्रणय भैया ने मुझसे कहा था कि वे मुझसे बात करेंगे,पर उन्होंने पुष्पेन्द्र भैया से रात 12:40 पर करवा कर इनसे अपनी सफाई दिलवाई। पुष्पेन्द्र भैया ने जानबूझकर whatsapp कॉल करी, ताकि उनकी बातें रिकॉर्ड न हो सके। कॉल करके भी उन्होंने सारा दोष संतोष भैया पर डाला ,और इस बात का यकीन दिलाया कि वह मेरे शुभचिंतक ही रहे हैं। जबकि सत्य तो यह है कि वह सिर्फ और सिर्फ शैलजा जी के शुभचिंतक रहे हैं हमेशा से।

पुष्पेन्द्र भैया को शैलजा जी के अलावा कभी और किसी की चिंता नहीं रही है। बाकियों की छोटी से छोटी गलती पर पुष्पेन्द्र भैया हमेशा नाराज होते रहे हैं,और अभय भैया और महेंद्र भैया से सिर्फ उनका शैलजा जी का गुणगान करते रहे हैं। मुझे आश्चर्य प्रणय भैया पर होता है कि वह यह सब देखने समझने के बावजूद पुष्पेन्द्र भैया का साथ कैसे व क्यों देते रहे?

मैंने जबसे यह कार्य शुरू किया तबसे सबसे ज्यादा इज्जत प्रणय भैया को ही दी। मैंने उनसे यह भी सीखा कि सिर्फ काम बोलता है और इन्सान को उसका काम ही उसकी पहचान बनता है। एक तरफ पुष्पेन्द्र भैया मिले जो सिर्फ दूसरों की कमियां निकालते दिखे, तो दूसरी तरफ प्रणय भैया दिखे जो अपने कार्य से अपना नाम बनाते दिखे। मैंने प्रणय भैया को अपना आदर्श माना और सिर्फ काम के द्वारा अपना नाम बनाना चाहा।

मुझसे गलतियां भी हुईं पर वे गलतियां न दोहराने की पूरी कोशिश करी, परन्तु शैलजा जो सिर्फ चाटुकरिता कर अपनी जगह पर थीं, उन्होंने मेरी छोटी से छोटी गलती को सबके सामने उजागर कर मुझे नाकारा साबित कर ही दिया। शैलजा जी को बहुत बहुत बधाई। मेरी आत्महत्या एक कत्ल है , जिसके जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ राजनीति करने वाली शैलजा और उनका साथ देने वाले पुष्पेन्द्र सिंह हैं।

अभय भैया और महेन्द्र भैया को तो इस बात का हल्का सा ज्ञान भी नहीं कि लखनऊ वाले कार्यालय में चल क्या रहा था। मैं आज भी (मरते दम तक )महेन्द्र भैया और अभय भैया की अपने माता – पिता जितनी ही इज्जत करता हूं। आपका नाकारा कर्मचारी। पार्थ श्रीवास्तव।

Parth Srivastava Suicide: पार्थ श्रीवास्तव को न्याय दिलाने के लिए #justiceforprarth कैंपने, देखें किसने क्या Tweet किया?

READ:  Tamil Nadu: महिला एयर ऑफिसर के यौन उत्पीड़न के आरोप में फ्लाइट लेफ्टिनेंट गिरफ्तार

घर पर लगाई फांसी
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पार्थ ने बुधवार सुबह अपने घर पर कथित रूप से फांसी लगाकर आत्महत्या की है। दोस्त के मुताबिक, पार्थ के पिता रविंद्र नाथ श्रीवास्तव की नजर जब उनकी नजर घर में लटके बेटे के शव पर पड़ी तो वो आनन फानन में पार्थ को लेकर राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने पार्थ को मृत घोषित कर दिया।

पुलिस ने कहा, नहीं मिला सुसाइड नोट
इस मामले में इंदिरा नगर थाने के इंस्पेक्टर अजय प्रकाश त्रिपाठी का कहना है कि, बुधवार को पार्थ ने अपने कमरे में फांसी लगाई थी। मामले की सूचना मृतक के पिता ने दी है। हालांकि परिवार वालों की ओर से कोई शिकायत नहीं की गई है। तहरीर मिलने पर छानबीन की जाएगी। उन्होंने बताया कि पुलिस को पार्थ का सुसाइड नोट नहीं मिला है।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।