बीजेपी को Nusrat Jahan की नसीहत, कहा राजनीति में धर्म को न लाएं

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


तृणमूल कांग्रेस सांसद नुसरत जहां(Nusrat Jahan) ने लव जिहाद के मामले को लेकर भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि लव और जिहाद दोनों अलग है। नुसरत जहां(Nusrat Jahan) ने भाजपा को नसीहत दी कि राजनीति में धर्म को ना घसीटें। “लव और जिहाद साथ साथ नहीं चलतें”।

Netflix वेबसीरीज़ में मंदिर का किसिंग सीन बना #BoycottNetflix की वजह


नुसरत(Nusrat Jahan) ने कहा कि प्यार बहुत व्यक्तिगत मामला है, हमें कोई नहीं बता सकता की हमे किससे प्यार करना चाहिए या किससे शादी करनी चाहिए। लव और जिहाद दोनों साथ साथ नहीं चलते हैं। हमें कोई नहीं बता सकता कि हमें क्या करना चाहिए कैसे खाना चाहिए, किस से प्यार करे और किस से प्यार ना करें। उन्होंने यह भी कहा कि धर्म को राजनीति का साधन न बनाए। भाजपा पर व्यक्तिगत मामलों पर हमला करने का आरोप लगाया गया। 22 नवंबर को टीएमसी के द्वारा आरोप लगाए गए थे कि भाजपा व्यक्तिगत हमलों के जरिए टीएमसी नेताओं का चरित्र हनन करने की कोशिश कर रही है क्योंकि उनके पास जनता को दिखाने के लिए कोई और मुद्दा नहीं है।

READ:  Amit Shah: अमित शाह का चेन्नई दौरा, सोशल मीडिया पर ट्रेंड #GoBackAmitShah और #Goback_Mr_420

बॉलीवुड की वो 8 मुस्लिम महिलाएं जिन्होंने हिन्दू अभिनेताओं से की शादी


वही पार्टी प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि टीएमसी व्यक्तिगत हमलों के पक्ष में नहीं हैं। हम चाहते हैं कि राज्य में विकास से संबंध कार्यों में बहस हो। लेकिन भाजपा के पास इस मुद्दे पर बात करने के लिए कुछ नहीं है। इसीलिए वह ऐसे नकारात्मक मुद्दे को बढ़ावा दे रही हैं। राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय द्वारा 21 नवंबर को की गई टिप्पणी से जोड़कर देखा जा रहा है.

दूसरी ओर उर्दू कवि मुनव्वर राना ने कहा कि नए कानून का इस्तेमाल पहले भाजपा के नेताओं और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ किया जाना चाहिए जिन्होंने समुदाय से बाहर शादी की है। उन्होंने ट्वीट में कहां कि “लव जिहाद सिर्फ एक जुमला है जो समाज में नफरत फैलाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है”। वही उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्यप्रदेश, कर्नाटक और असम के नेताओं ने वादा किया है कि लव जिहाद को रोकने के लिए सख़्त कानून लागू किया जाएगा।

READ:  सिंधिया समर्थक मंत्री का बड़ा बयान, ‘कमलनाथ के 15 महीने का लेखा-जोखा खोल दिया तो जेल में होंगे’

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at [email protected] to send us your suggestions and writeups.