NSUI ने वीर सावरकर की मूर्ति को पहनाई जूतों की माला, छात्र राजनीति गरमाई

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

न्यूज़ डेस्क । ग्राउंड रिपोर्ट

दिल्ली यूनिवर्सिटी के नार्थ कैंपस में लगाई गई भगत सिंह और चंद्र शेखर आज़ाद की मूर्ति के साथ सावरकर की मूर्ति पर छात्र राजनीति गर्मा गई है। कांग्रेस की छात्र इकाई NSUI ने वीर सावरकर की मूर्ति पर कालिख पोत उसे जूते की माला पहना दी। NSUI का कहना है कि सावरकर को भगत सिंह और आज़ाद जैसे देशभक्तों के साथ सावरकर की मूर्ति लगाना अपमान है।

गौरतलब है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने नॉर्थ कैम्पस में ये तीनों मूर्ति लगाने की इजाज़त कॉलेज प्रशासन से मांगी थी जिस पर कोई संज्ञान नहीं लिया गया। इजाज़त नहीं मिलने पर भी कॉलेज कैंपस में यह मूर्तियां अवैध रूप से लगा दी गई। सावरकर की मूर्ति लगाने का आइसा और NSUI ने विरोध किया।

NSUI का कहना है कि सावरकर ने देश की आज़ादी में कोई भूमिका नहीं निभाई ऐसे में उन्हें भगत सिंह और आज़ाद के कद में खड़ा करना गलत है। ABVP अपनी मांग मनवाने पर अड़ी हुई है। लेकिन कॉलेज प्रांगण में ये मूर्तियां कौन लाया इस सवाल पर ABVP चुप है।

कुछ ही दिनों में छात्र संघ के चुनाव होने हैं, इस प्रकरण के बाद छात्र राजनीति गरमा गई है। चुनावों में सावरकर बनाम गांधी की लड़ाई का असर देखने को मिलेगा।