Skip to content
Home » आ गया है No Nut November, जानिए क्या हैं इसके नियम?

आ गया है No Nut November, जानिए क्या हैं इसके नियम?

No Nut November challenge rules

Read in English | No Nut November एक बार फिर आपकी परीक्षा लेने के लिए हाज़िर है। इस महीने लड़के और लड़कियों को अपना इजैक्यूलेशन कंट्रोल करना होगा। पूरे 30 दिन तक आपको अपने स्पर्म्स को बाहर आने से रोकना होगा। यानी नो सेक्स, नो मास्टरबेशन। जी हां परीक्षा का दौर शुरु हो गया है। और कई युवा और टीनेजर्स No Nut November challenge लेने के लिए तैयार हो गए हैं। कहते हैं इससे पता चलता है कि आपका अपनी बॉडी पर कितना कंट्रोल है।

क्या है No Nut November यानी एनएनएन?

इसकी शुरुवात साल 2011 के आसपास इंटरनेट की दुनिया पर हुई। नो नट का मतलब है की आपको किसी भी हाल में पूरे एक महीने तक इजैक्यूलेशन से बचना है। जो लोग इस चैलेंज में सफल होंगे वो 30 दिन बाद आत्मविश्वास से लबरेज़ होंगे कि उन्होंने खुद को जीत लिया है। अगर आपको इस दौरान नाईट फॉल हो गया तो आप इस चैलेंज से बाहर हो जाते हैं। तो आईये जानते हैं कि क्या हैं नो नट नवंबर के नियम?

  • आप किसी भी प्रकार से सेक्स या मास्टरबेट नहीं कर सकते।
  • इस दौरान अश्लील वीडियो देखना और बोनर होना अलाउड होता है, बट यू कांट नट।
  • एक वेट ड्रीम इस चैलेंज में अलाउड होता है, एक से ज्यादा बार नाईट फॉल होने पर आप चैलेंज से बाहर हो जाते हैं।
  • इसमें चैलेंज लेने वाले व्यक्ति को दूसरा चांस नहीं मिलता। एक बार शुरु करने पर चैलेंज पूरा करना ही होता है। अगर आप असफल होने के बाद दोबारा इसे शुरु करेंगे तो चैलेंज से बाहर ही माने जाएंगे।

कैसे हुई शुरुवात?

माना जाता है की No Nut November की शुरुवात एंटी पॉर्नोग्राफी मूवमेंट के रुप में कुछ ऑनलाईन ग्रुप्स में हुई। फिर यह काफी लोकप्रिय हो गया। कुछ ग्रुप्स का मानना है कि मास्टरबेशन से अगर व्यक्ति दूर रहे तो वह पॉर्न और सेक्स एडिक्शन से बच सकता है।

नो नट नवंबर चैलेंज लेने वाले कुछ लोगों का यह भी मानना है कि इसके बाद उनके टेस्टेस्टेरॉन लेवल में काफी वृद्धी हो गई। हालांकि इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है।

कई यंग युवक और युवतियां इस चैलेंज को केवल फन के लिए करते हैं।

क्या इसका कोई फायदा होता है?

नो नट नवंबर चैलेंज लेने वाले दावा करते हैं कि इस दौरान उनकी एनर्जी बढ़ जाती है, उनका सेल्फ कॉंफिडेंस बढ़ता है, टेस्टेस्टेरोन बढ़ते हैं, मैंटल क्लारिटी आती है।

हालांकि मैडिकल प्रोफेशनल और साईंस दावा करती है कि इजैक्यूलेशन से व्यक्ति की मेंटल हेल्थ अच्छी हो जाती है।

इस चैलेंज को अगर फन के रुप में लिया जाए तो ही बेहतर है। आईये इससे जुड़े इंटरनेट पर वायरल मीम्स पर नज़र डालते हैं।

No Nut November Viral Memes

Also Read

Follow Ground Report for Climate Change and Under-Reported issues in India. Connect with us on FacebookTwitterKoo AppInstagramWhatsapp and YouTube. Write us on GReport2018@gmail.com

%d bloggers like this: