सरकार का फैसला : इस साल हज यात्रा के लिए सऊदी अरब नहीं जा सकेंगे भारतीय मुसलमान

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना वायरस की वजह से इस साल भारत से कोई भी श्रद्धालु हज यात्रा पर सऊदी अरब नहीं जा सकेगा। मंगलवार को केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, ‘हमने फैसला किया है कि इस वर्ष भारत से जाने वाले यात्रियों को हज यात्रा पर सऊदी अरब नहीं भेजा जाएगा। अब तक 2,30,000 से ज्यादा भारतीय मुसलमानों ने हज यात्रा के लिए आवेदन किया है। सभी का पैसा बिना किसी कटौती के नकद हस्तांतरण के जरिए वापस कर दिया जाएगा।’

मुख़्तार अब्बास नक़वी ने बताया कि उन्हें सऊदी अरब के हज और उमराह मंत्री डॉ. मोहम्मद सालेह बिन तहर बेनतेन का फोन आया कि भारत से इस बार हज यात्री न भेजे जाएं। मुख़्तार अब्बास नक़वी ने ट्वीट कर कहा है, ‘हज 2020 के लिए तकरीबन 2 लाख 13 हजार आवेदन मिले हुए थे। बिना किसी कटौती के आवेदकों के पैसे लौटाने की प्रक्रिया आज से शुरू कर दी गई है। पैसे डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर के माध्यम से आवेदकों के खाते में ऑनलाइन भेजे जाएंगे।’

इससे पहले 13 जून को सऊदी अरब के हज मंत्रालय और उमराह के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि 1932 में किंगडम की स्थापना के बाद से पहली बार हज का सीजन रद्द करने पर सऊदी अरब के अधिकारी विचार कर रहे हैं। अधिकारी ने कहा था कि मामले का सावधानीपूर्वक अध्ययन किया गया है और विभिन्न परिदृश्यों पर विचार किया जा रहा है।

मार्च में सऊदी अरब ने दुनियाभर के देशों से कहा कि वे अपनी हज योजनाएं रद्द करें और उमराह तीर्थयात्रा को स्थगित कर दें। वहीं रॉयटर्स ने दो अधिकारियों के हवाले से बताया था कि सऊदी अरब हज के लिए इस वर्ष तीर्थयात्रियों की एक निश्चित संख्या को अनुमति दे सकता है। इसके अलावा, बुजुर्गों के आने पर प्रतिबंध और अतिरिक्त स्वास्थ्य जांच को बढ़ाने जैसे उपायों को भी सुझाया गया।

यह अभी तक स्‍पष्‍ट नहीं है कि क्‍यों सऊदी अरब सरकार ने हज यात्रा से मात्र 5 सप्‍ताह पहले यह फैसला लिया है। माना जा रहा है कि दुनियाभर के मुस्लिमों की भावनाओं को देखते हुए सऊदी अरब सरकार ने यह फैसला इतनी देरी से लिया है। सऊदी अरब ने अपनी स्‍थापना के 90 साल के अंदर कभी भी हज यात्रा को रद्द नहीं किया है। सऊदी अरब के शाह का परिवार कई पीढ़ि‍यों से मक्‍का में आयोजित होने वाली हज यात्रा का संरक्षक है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, सऊदी अरब ने बीते 22 जून को घोषणा की थी कि इस साल बहुत ही सीमित संख्या में लोगों को हज यात्रा करने की अनुमति दी जाएगी। सरकार की ओर से कहा गया था विभिन्न देशों के ऐसे लोग जो सऊदी अरब में रह रहे हैं, उन्हें ही यात्रा की अनुमति होगी। हालांकि सरकार ने यह नहीं बताया कि कितनी संख्या में लोग इस बार हज यात्रा में शामिल होंगे।

बता दें कि भारत से औसतन हर साल लगभग दो लाख लोग हज के लिए सऊदी अरब जाते हैं। दुनिया के सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाले देश इंडोनेशिया ने अपने नागरिकों के हज यात्रा पर जाने पर रोक लगा दी है। इंडोनेशिया से हर साल 2,20,000 लोग हज के लिए सऊदी अरब जाते हैं।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।