120 की रफ्तार से तबाही मचा रहा है निसर्ग तूफान, कई घरों की छत उड़ी

Nisarga Cyclone Landfall
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

निसर्ग चक्रवात (NIsarga Cyclone) महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से टकरा चुका है। 120 से लेकर 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। मौसम विभाग के अनुसार अगले तीन घंटे तक तेज़ हवाओं के साथ भारी बारिश की संभावना है। तूफान से कई जगह पेड़ उखड़ चुके हैं और कच्चे मकानों को काफी नुकसान हुआ है। तूफान की वजह से बिलजी गुल हो चुकी है। जनजीवन अस्तव्यस्त हो चुका है। चक्रवात के चलते मुंबई और गुजरात में रेड एलर्ट जारी किया गया है। दोपहर 12 बजे से शुरु हुआ तूफान थमने का नाम नहीं ले रहा है। गुजरात और महाराष्ट्र में 40 हज़ार लोगों को अबतक सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है।

5 बड़ी बातें-

01

अरब सागर में उठा निसर्ग चक्रवात

अरब सागर से उठा निसर्ग तूफान देश के पश्चिमी इलाकों में तबाही मचा रहा है। 100 से 120 किलोमीटर प्रति घंटे हवा की रफ्तार के चलते कई जगहों पर बिजली के खंभे और पेड़ उखड़ गए। रायगढ़ में मकान की टिन की छतें चादरों की तरह हवा में उड़ती हुई दिखीं।

READ:  लिव इन रिलेशन को नकारने वाला समाज नाता प्रथा पर चुप क्यों रहता है?
02

फ्लाईट्स की उड़ाने बाधित

निसर्ग तूफान के चलते मुंबई एयरपोर्ट पर दोपहर ढ़ाई बजे से शाम 7 बजे तक विमानों की लैंडिंग की इजाजत नहीं दी गई है। 20 फ्लाइट्स शेड्यूल थीं जबकि 12 डिपार्चर और 8 अराइवल्स थे।

03

अगले तीन घंटे में तूफान के शांत होने के आसार

मौसम विभाग ने बताया कि चक्रवात निसर्ग के लैंडफॉल की प्रकिया शुरू हो गई है। अगले तीन घंटे में यह पूरी हो जाएगी। दोपहर 12 बजे से शुरु हुआ तूफान अब तक तबाही मचा रहा है। इस चक्रवात का असर कई राज्यों में बारिश के रुप में देखा जाएगा।

04

एनडीआरएफ की टीम तैनात

साइक्लोन निसर्ग की वजह से महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की 20 टीमों को तैनात किया गया। मुंबई में आठ टीमें, रायगढ़ में पांच टीमें, पालघर में दो, ठाणे में दो, रत्नागिरी में दो और सिंधुदुर्ग में एक टीम को तैनात किया गया है।

READ:  कोविड महामारी और बुन्देलखण्ड का पलायन
05

100 साल बाद इतना भयंकर तूफान

भारत में अरब सागर से आमूमन कम ही भयंकर तूफान खड़े होते हैं जबकि बंगाल की खाड़ी में चक्रवात आते रहते हैं। लेकिन 100 साल बाद ऐसा हो रहा है जब 2019 के बाद से अरब सागर में इस तरह के भयंकर तूफान आ रहे हैं। अब तक वायू, हिक्का, क्यार, महा, और पवन तूफान अरब सागर से लगे तटीय क्षेत्रों से टकरा चुके हैं।

READ:  IFFCO ने लिया अहम फैसला, किसानों को दी बड़ी राहत

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।