Home » मज़दूरों के लिए सरकारी मदद ‘ऊंट के मुंह में ज़ीरा’ जैसी, ट्रक पलटने से नौ और मज़दूरों की मौत

मज़दूरों के लिए सरकारी मदद ‘ऊंट के मुंह में ज़ीरा’ जैसी, ट्रक पलटने से नौ और मज़दूरों की मौत

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

कोरोना वायरस से सुरक्षा के मद्देनजर देशभर में हुए लॉकडाउन के बीच प्रवासी मजदूर लगातार सड़क दुर्घटनाओं का शिकार हो रहे हैं। ताजा मामला बिहार के भागलपुर जिले का है। बिहार के भागलपुर जिले में मंगल की सुबह ट्रक और बस में शदीद टक्कर हो गई। टक्कर इतनी भयानक थी कि ट्रक सड़क किनारे गड्ढे में पलट गया। जिसके नतीजे में नौ लोगों की मौत हो गई है और लगभग दो दर्जन मुसाफिर ज़ख्मी हो गए हैं।

इस ट्रक में 15 प्रवासी मजदूर थे, जो बेंगलुरु से आ रही श्रमिक विशेष ट्रेन से उतरे थे। आगे के सफर के लिए ये सभी मजदूर एक ट्रक में सवार हुए थे। पुलिस मृतकों की पहचान अभी नहीं कर सकी है। उनके शव नवगछिया के एक अस्पताल में ले जाया गया है।

यह घटना मंगलवार तड़के दो बजे हुई, जब ट्रक एनएच-31 पर एक बस से टकरा गया। ट्रक का संतुलन बिगड़ गया और वह सामने से आ रही बस से टकराकर खाई में जा गिरा । सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीओ) मुकेश कुमार ने कहा, इन लोगों के आधार कार्ड के मुताबिक, ये धोबी चंपारण के थे. ऐसा लगता है कि वे अपनी साइकिलों से यात्रा कर रहे थे और बीच रास्ते में ट्रक में सवार हो गए थे।

READ:  Former Punjab CM Captain Amarinder Singh left Congress party: अमरिंदर सिंह ने छोड़ी कांग्रेस पार्टी, कही ये बड़ी बात

मालूम हो कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लागू देशव्यापी लॉकडाउन के कारण प्रवासी मजदूरों के सामने आजीविका का संकट खड़ा हो गया है और वे अपने गृह राज्यों की ओर पलायन करने को मजबूर हैं। उनके साथ लगातार हादसों की खबरें आ रहीं हैं। इससे पहले महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक मालगाड़ी की चपेट में आने से 16 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई थी। इससे पहले बीती 14 मई की देर रात उत्तर प्रदेश के जालौन और बहराइच में दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में तीन प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई, जबकि 71 अन्य घायल हो गए थे। लॉकडाउन के कारण अब तक 350 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके हैं ।

READ:  Lakhimpur Kheri violence : अखिलेश को किया रिहा, प्रियंका को रखा गया अभी भी हिरासत में

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।