इस गांव के कुएं में मृत पाए गए 9 प्रवासी मज़दूर

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

तेलंगाना के वारंगल ग्रामीण जिले के एक गांव के कुएं से नौ लोगों के शव बरामद किए गए हैं जिनमें से छह एक ही परिवार के सदस्य हैं.यह घटना वारंगल के गोर्रेकुंटा गांव में हुई. गुरुवार शाम को कुएं से चार शव बरामद किए गए, जबकि शुक्रवार सुबह पांच शव बरामद किए गए. शवों पर किसी तरह के चोट के निशान नहीं हैं.

पुलिस का कहना है कि पश्चिम बंगाल के रहने वाले मकसूद आलम और उनकी पत्नी निशा 20 साल पहले काम के सिलसिले में वारंगल आए थे और यहां आजीविका के लिए जूट के बैग की सिलाई का काम करते थे. पुलिस का कहना है कि आलम, उनकी पत्नी, बेटी, तीन साल के पोते, बेटे सोहेल और शाबाद के अलावा त्रिपुरा के शकील अहमद और बिहार के श्रीराम और श्याम के शव कुएं से मिले हैं.

READ:  पीएम मोदी के राहत पैकेज पर बोले मजदूर, हम भूखे मर रहे हैं ट्रेन चलाएं तो चलाएं वरना पैदल चले जाएंगे

यह घटना वारंगल ज़िले के गोर्रेकुंटा गांव की है. इन नौ लोगों में से छह एक ही परिवार के सदस्य हैं. ये परिवार पश्चिम बंगाल का रहने वाला था, जबकि तीन अन्य मृतकों में से दो बिहार और एक व्यक्ति त्रिपुरा का था.

एसीपी श्याम सुंदर ने आत्महत्या के मामले से इनकार करते हुए कहा, ‘अगर यह आत्महत्या होती तो सिर्फ एक परिवार के ही लोग आत्महत्या करते लेकिन उनके साथ तीन और शव मिले हैं. हम विभिन्न संभावनाओं को देखते हुए मामले की जांच कर रहे हैं.’ फैक्ट्री मालिक ने पुलिस को बताया कि लॉकडाउन की वजह से फैक्ट्री बंद थी लेकिन इस परिवार और अन्य तीनों के पास पर्याप्त राशन और पैसे थे, वे किसी तरह की तकलीफ में नहीं थे.शवों को पोस्टमार्टम के लिए वारंगल के एमजीएम अस्पताल भेजा गया है.

READ:  ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #जयभीम_मुंबई, गुस्से में अम्बेडकरवादी

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: