लॉकडाउन लगाने के लिए इस देश ने अपने इतने नागरिक मार दिए जितने कोरोना से नहीं मरे

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

समपूर्ण विश्व आज कोरोना के संक्रमण से जंग लड़ रहा है । अधिकतर देशों में पूर्ण रूप से लॉकडाउन लागू कर रखा है । वहीं, लंबे समय से मज़हबी हिंसा से ग्रस्त अफ़्रीकी देश नाइजीरिया भी कोरोना वायरस की चपेट में है । नाइजीरिया प्रशासन का एक बार फिर आमानवीय चेहरा सामने आया है। कोरोना वायरस के सक्रंमण को देखते हुए नाइजीरिया में लॉकडाउन लगाने के लिए 18 लोगों को मौत के घाट उतार दिया । वहीं, नाइजीरिया में कोरोना से मरने वालों की संख्या 12 है ।

READ:  States, UTs can impose local curbs to control rising covid-19 cases: Centre

नाइजीरिया के राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने बताया है कि देश में कोरोना को नियंत्रित करने के लिए लगाए गए लाक डाउन को लागू कराने में 18 लोग मारे गए हैं। हालांकि नाइजीरिया में कोरोना से मरने वालों की संख्या अभी 12 है। नाइजीरिया के मानवाधिकार आयोग के अनुसार देश के सुरक्षाबलों ने कोरोना की रोकथाम के उद्देश्य से लाक डाउन को लागू कराने में उससे कहीं अधिक लोगों की जान ले ली जितनी कोरोना ने भी नहीं ली है। यह सुरक्षाबल लाक डाउन को लागू करने के लिए बल का प्रयोग कर रहे हैं जिसके कारण हिंसक झड़पें हुई हैं।

READ:  क्या निजीकरण के ज़रिए आरक्षण खत्म करना चाह रही है सरकार?

नाइजीरिया के मानवाधिकार आयोग के अनुसार देश की राजधानी अबूजा और अन्य प्रांतों में लाक डाउन लागू कराने के संबन्ध में इस आयोग को पुलिस की 105 शिकायतें मिली हैं। नाइजीरिया में कोरोना के संक्रमितों की संख्या 407 है जिसमें से 12 लोग कोरोना के कारण मारे गए हैं। वहीं पुलिस की ओर से लाक डाउनलागू कराए जाने के दौरान पुलिस के हाथों 18 लोग मारे गए।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।