Home » HOME » लॉकडाउन लगाने के लिए इस देश ने अपने इतने नागरिक मार दिए जितने कोरोना से नहीं मरे

लॉकडाउन लगाने के लिए इस देश ने अपने इतने नागरिक मार दिए जितने कोरोना से नहीं मरे

Sharing is Important

Ground Report | News Desk

समपूर्ण विश्व आज कोरोना के संक्रमण से जंग लड़ रहा है । अधिकतर देशों में पूर्ण रूप से लॉकडाउन लागू कर रखा है । वहीं, लंबे समय से मज़हबी हिंसा से ग्रस्त अफ़्रीकी देश नाइजीरिया भी कोरोना वायरस की चपेट में है । नाइजीरिया प्रशासन का एक बार फिर आमानवीय चेहरा सामने आया है। कोरोना वायरस के सक्रंमण को देखते हुए नाइजीरिया में लॉकडाउन लगाने के लिए 18 लोगों को मौत के घाट उतार दिया । वहीं, नाइजीरिया में कोरोना से मरने वालों की संख्या 12 है ।

नाइजीरिया के राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने बताया है कि देश में कोरोना को नियंत्रित करने के लिए लगाए गए लाक डाउन को लागू कराने में 18 लोग मारे गए हैं। हालांकि नाइजीरिया में कोरोना से मरने वालों की संख्या अभी 12 है। नाइजीरिया के मानवाधिकार आयोग के अनुसार देश के सुरक्षाबलों ने कोरोना की रोकथाम के उद्देश्य से लाक डाउन को लागू कराने में उससे कहीं अधिक लोगों की जान ले ली जितनी कोरोना ने भी नहीं ली है। यह सुरक्षाबल लाक डाउन को लागू करने के लिए बल का प्रयोग कर रहे हैं जिसके कारण हिंसक झड़पें हुई हैं।

READ:  अभिव्यक्ति की आज़ादी पर मंड़राते ख़तरे को पहचानना ज़रूरी…!

नाइजीरिया के मानवाधिकार आयोग के अनुसार देश की राजधानी अबूजा और अन्य प्रांतों में लाक डाउन लागू कराने के संबन्ध में इस आयोग को पुलिस की 105 शिकायतें मिली हैं। नाइजीरिया में कोरोना के संक्रमितों की संख्या 407 है जिसमें से 12 लोग कोरोना के कारण मारे गए हैं। वहीं पुलिस की ओर से लाक डाउनलागू कराए जाने के दौरान पुलिस के हाथों 18 लोग मारे गए।

आप ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।