अजमेर के ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती को लेकर विवादित टिप्पणी करने पर अमीष देवगन के खिलाफ FIR

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

न्यूज 18 इंडिया के एंकर अमीष देवगन पर फ़र्जी ख़बर चलाने के आरोप में केस दर्ज़ किया गया है। उन पर संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती पर अपमानजनक टिप्पणी के भी आरोप हैं। अमीश ने अपने शो ‘आर-पार’ जो 16 जून को प्रसारित किया गया था, उसमें कुछ वीडियो क्लिपस दिखाए थे जिनमें उन्होंने दावा किया कि मुस्लमान लॉकडाउन के दौरान भी कुर्ला मस्जिद में नमाज अदा कर रहे थे। उन्होंने बताया कि वीडियो में कैसे मस्जिद में सोशल डिस्टेन्सिंग की धज्जियाँ उड़ा कर ग़लत बर्ताव हो रहा था।

Kanishtha Singh | New Delhi

बीते दिनों आज तक, न्यूज नैशन जैसे कई बड़े चैनलों पर सुशांत की मौत की ख़बर को तमाशे से पेश करने के कारण पत्रकारिता के घटते स्तरों की निंदा की गई थी। बड़े सितारों और जनता ने काफ़ी आलोचनाएँ भी की। इन सब के बावज़ूद ऐसी छोटी और त्रुटि पूर्ण गलतियां रोज सामने आ रही है। इन्हीं आडम्बरों और झूठी पत्रकारिता के कारण आम जनता का पत्रकारों और मीडिया से विश्वास उठता जा रहा है।

किसने दर्ज़ कराई एफआईआर
शिकायत शहजाद खान (पब्लिक केयर फाउंडेशन के संस्थापक सदस्य) और अजीम खान (ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट कांग्रेस) (INTUCC) के अध्यक्ष ने दर्ज़ करवाई है। उन्होंने अमीष और न्यूज 18 चैनल पर फ़र्जी ख़बर फ़ैलाने और मुस्लिम समुदाय की भावनाओं को आहत करने के आरोप लगाए हैं। शिकायतकर्ताओं ने अपनी सफ़ाई मे बताया कि इस तरह की कोई भी घटना जिसमें पुलिस कर्मियों से बदसलूकी या लॉकडाउन का उल्लंघन जैसा कि देवगन ने अपने शो पर कहा ना शुक्रवार को ना ही अन्य किसी दिन हुई है।

रजा अकादमी ने अमीष के खिलाफ़ एफआईआर दर्ज की और सेक्शन 295A, 153A, 34,120B,505 और आपदा  प्रबंधन अधिनियम के अंतर्गत आपराधिक प्रकरण दर्ज करने की माँग की है। जनता ने ट्विटर पर अमीष पर धार्मिक सीमाओं से परे सदियों के विश्वास और एकता को ठेस पहुंचाने के लिए अपने गुस्से और विरोध का जमकर प्रदर्शन किया। #ArrestAmishDevgan के ट्रेंड्स ट्विटर पर काफ़ी ट्रेडिंग हो रहे हैं।

मामले के पीछे के फैक्टस
रिपोर्ट्स के अनुसार पुलिस और भक्तों के बीच हाथापाई की घटना 29 अप्रैल की है। हालांकि ये घटना  कुर्ला पाइप रोड पर पुलिस की पेट्रोलिंग के दौरान रिजवान जुबैर मेमन द्वारा पेट्रोलिंग टीम को अपशब्द कहने पर हुई थी। भीड़ इकठ्ठा होने के बाद रिजवान वहां से भाग गया और उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई, हालांकि ये मसला भी अमीष देवगन के शो आर-पार से जुड़ा हुआ है। शिकायतकर्ता के मुताबिक अमीष ने मुंबई पुलिस और मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाया है और उन्होंने (“protect journalism slipping away with such willful errors”,) इस तरह की दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ फिसलने वाली पत्रकारिता की रक्षा करना”, ऐसे एंकर के खिलाफ शिकायत दर्ज कर दी।

अमीष को मांगनी पड़ी माफी
बहरहाल इन सबके के बाद अमीष ने अपने ट्विटर अकाउंट से ग़लती के लिए माफ़ी मांगी और कहा कि अपने एक डिबेट शो पर मैंने असावधानी मे ‘खिलजी’ को ‘चिश्ती’ सन्दर्भित कर दिया। मैं आत्मीयता से इस गंभीर गलती के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ। जिसके कारण सूफ़ी संत मोइनुद्दीन चिश्ती, जिनका मैं खुद सम्मान करता हूँ और उनकी दरगाह से मुझे कई दुआएँ मिली है, उनके अनुयायियों की पीड़ा के लिए मुझे दुःख हैं। हालांकि न्यूज एंकर अमीष देवगन ने झूठी खबर चलाने के लिए ऑन स्क्रीन 30 सेकंड की माफ़ी भी मांगी लेकिन शिकायतकर्ता ने केस वापस लेने से इंकार कर दिया।