हाथरस गैंगरेप मामला कब क्या हुआ

हाथरस गैंगरेप केस में नया मोड़, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने अब किया ये दावा

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हाथरस गैंगरेप मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि मतृक पीड़िता ने घटना के एक हफ्ते बाद पहली बार अपने साथ हुए दुष्कर्म की बात कही थी। शुरू से ही यह बात सामने थी कि न सिर्फ हाथरस की उस दलित युवती के साथ बुरी तरह मारपीट हुई बल्की उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया। लेकिन पुलिस अधिकारी का यह बयान ऐसे समय में सामने आया है जब मृतका की फॉरेंसिक रिपोर्ट में रेप या गैंगरेप नहीं होने की बात कही गई है।

हाथरस गैंगरेप: आधीरात परिवार के बिना यूपी पुलिस ने जला दिया पीड़िता का शव

एनडीटी हिन्दी न्यूज चैनल से बातचीत में उत्तर प्रदेश पुलिस के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी प्रशांत कुमार ने कहा कि महिला की शिकायत के आधार पर रेप के आरोप में केस दर्ज किया गया था। जांच समाप्त होने तक किसी भी संभावना से इनकार नहीं किया जा रहा था लेकिन फॉरेंसिक रिपोर्ट में सैंपल में स्पर्म नहीं पाया गया है। हम हमेशा पहले दिन से पीड़िता के बयान पर विश्वास करके चल रहे थे। 14 सितंबर को घटना एक घंटे बाद जब पीड़िता अपने भाई और मां के साथ पुलिस स्टेशन आई थी, तो उचित धाराओं में हमने मामला पंजीकृत किया था और पीड़िता को अस्पताल भेज दिया था।

छावनी में तब्दील हुआ हाथरस, प्रियंका-राहुल मिलेंगे पीड़ित परिवार से

उन्होंने कहा कि, “इसके बाद उसे अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अस्पताल में शिफ्ट किया था। 22 सितंबर को पहली बार, उसने अपने साथ यौन उत्पीड़न (Sexual Assault) के बारे में बताया था और हमने तुरंत धाराओं को बढ़ाकर सभी को गिरफ्तार किया था। 25 सितंबर को डॉक्टरों द्वारा सैंपल लिए गए और जांच की गई। पीड़िता की हालत को देखते हुए बेहतर इलाज के लिए उसे दिल्ली के अस्पताल में भर्ती किया गया। दुर्भाग्य से वहां उसकी मौत हो गई।

उन्होंने कहा कि, आज, हमें फॉरेंसिक लैब की रिपोर्ट मिली, जिसमें स्पष्ट कहा गया है कि पीड़िता के सैंपल में स्पर्म या और किसी तरह के निशान नहीं मिले हैं। अब, जांच अधिकारी सभी मौजूद साक्ष्यों पर विचार करने के लिए बाध्य है और इसी के आधार पर वह निष्कर्ष पर पहुंचे हैं।

हाथरस गैंगरेप मामले में कब, कैसे, क्या हुआ, पढ़ें पूरी टाइमलाइन…

बता दें कि बीती 14 सितंबर को गांव के ही रहने वाले “तथाकथित” उच्च जाति के चार युवकों ने दलित युवती के साथ न सिर्फ सामुहिक दुष्कर्म किया बल्की उसे बुरी तरह मारापीटा गया। रिपोर्ट में यह बात भी कही गई है कि शायद ही ऐसा कोई अंग होगा जहां युवती के शरीर पर चोट के निशान न मिले हो। उसके शरीर में मल्टीपल फ्रेक्चर पाए गए थे। युवती के साथ कथित तौर पर गैंगरेप किया था। वह दलित युवती खेतों में निर्वस्‍त्र अवस्‍था में मिली थी। उसके शरीर से खून बह रहा था। उसके शरीर पर कई जगह चोट के निशान थे और हड्डियां टूटी हुई थीं। उसकी जीभ भी काट दी गई थी। गैंगरेप पीड़िता की मंगलवार को दिल्‍ली के एक अस्‍पताल में मौत हो गई थी और पुलिस ने देर रात पुलिस ने अंतिम संस्‍कार कर दिया था। अपनी ही बेटी के अंतिम संस्कार में उसका परिवार शामिल नहीं हो सका।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।