Home » New Population Scheme: उत्तर प्रदेश में जनसंख्या नीति लागू, समझें 10 खास बातें!

New Population Scheme: उत्तर प्रदेश में जनसंख्या नीति लागू, समझें 10 खास बातें!

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

New Population Scheme: देश में जनसंख्या वृद्धि को देखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने आज सुबह 11:30 बजे 10 साल के लिए नई जनसंख्या नीति 2021-30 को लागू की है। लागू हुए नई जनसंख्या नीति (New Population Scheme) का उद्देश्य परिवार नियोजन पर ध्यान देना है। इसके साथ ही सरकार गर्भपात की समुचित व्यवस्था भी प्रदान करेगी। वहीं इस कार्यक्रम का आयोजन मुख्यमंत्री के आवास पर किया गया।

किस तरह है जनसंख्या नीति लाभप्रद

1. नवजात मृत्यु दर को किया जा सकेगा कम : मुख्यमंत्री योगी सरकार द्वारा लागू की गई नई जनसंख्या नीति (New Population Scheme) के माध्यम से जच्चा-बच्चा की मृत्यु दर कम की जा सकेगी। इसके साथ ही बच्चे की डिलीवरी के समय मां की होने वाली मृत्यु दर भी कम की जा सकेगी। वहीं नपुंसकता व बांझपन से संबंधित समस्याओं पर भी सरकार ध्यान देगी।

2. 11 से 19 साल के बच्चों को मिलेगा सही शिक्षा और पोषण: इस नीति के अनुसार किशोरों को अच्छी शिक्षा के साथ साथ अच्छा पोषण और स्वास्थ्य प्रदान कराना सरकार का उद्देश्य होगा। इसके साथ ही बुजुर्गो की देखभाल के लिए भी सरकार हर मुमकिन कोशिश करेगी।

3. नौकरी के मिलेंगे नए अवसर: सभी बेरोजगार और योग्य किशोरों को सरकार नौकरी के नए अवसर प्रदान करेगी। वहीं योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा का कहना है कि अभी तक ऐसी कोई नीति सरकार ने नहीं बनाई है। अभी इस नीति को लेकर सरकार जनता की राय लेकर विचार करेगी। इसके साथ ही रजा के अनुसार 1 या 2 बच्चे होने पर इंजीनियर या डॉक्टर बनाएंगे। वहीं यदि 8 बच्चे होते हैं तो साइकिल की दुकान में बैठाल देंगे।

READ:  Caste violence: youth killed, four arrested in Uttar Pradesh

4. नसबंदी कराने पर मिलेगा एक्स्ट्रा इंक्रीमेंट: सरकार की नीति के अनुसार यदि कोई भी सरकारी नौकरी करने वाला नसबंदी करवाता है तो वह एक्स्ट्रा इंक्रीमेंट, प्रमोशन, सरकारी आवासीय योजनाओं में छूट, पीएफ में एंप्लॉयर कंट्रीब्यूशन बढ़ने जैसी सुविधाओं का लाभ उठा सकेगा।

5. प्राइवेट नौकरी वालों के लिए भी है लाभदायक: सरकारी नौकरी के साथ साथ नई नीति के अनुसार प्राइवेट नौकरी करने वाले भी इस नीति का फायदा उठा सकेंगे। आपको बता दें की यदि दो बच्चों वाले दंपति यदि प्राइवेट नौकरी करते हैं तो उन्हें पानी, बिजली, हाउस टैक्स, होम लोन में छूट किसी सुविधा प्रदान की जाएगी।

6. एक से ज्यादा शादियां करने पर नहीं मिलेगी सुविधा: अपको बता दें कि यदि कोई भी व्यक्ति एक से ज्यादा शादियां करता है और दो से ज्यादा बच्चे होते हैं तो उस व्यक्ति को किसी भी प्रकार की सुविधा नहीं दी जाएगी। इतना ही नहीं यदि कोई महिला भी ऐसा करती है तो उसे भी सुविधाएं नहीं दी जायेंगी।

7. कानून का उलंघन करना नौकरी पर पड़ सकता है भारी: यदि यह नई जनसंख्या नीति लागू होती है तो, सभी सरकारी कर्मचारियों, स्थानीय निकाय में चुने गए जनप्रतिनिधियों को शपथ पत्र देना होगा। जिसमें किसी भी प्रकार के कानून का उलंघन करने पर उनका प्रमोशन रोकने के साथ साथ उन्हें नौकरी से निकाला भी जा सकता है।

8. एक संतान के बाद नसबंदी कराने पर बच्चे का इलाज मुफ्त: यदि कोई भी व्यक्ति एक बच्चे के बाद नसबंदी करवाता है तो, उसके बच्चे को 20 साल तक मुफ्त इलाज, शिक्षा, बीमा शिक्षण संस्था व सरकारी नौकरियों में प्राथमिकता देने जैसी सुविधा प्रदान की जाएगी।

READ:  उत्तर प्रदेश: ससुर ने बहू से रचाई शादी, लड़के को कहा टाटा बाय-बाय

9. गरीबी रेखा के नीचे वाले यदि करते है नसबंदी: नई नीति के तहत यदि कोई भी गरीबी रेखा के नीचे वाला व्यक्ति खुद एक बच्चे के बाद नसबंदी करवाता है तो, उसके बेटे को 80 हजार और बेटी को एक लाख रुपए दिए जाएंगे।

10. तीसरे बच्चे को गोद लेने पर नहीं रहेगी रोक: यदि इस एक्ट के लागू होने के समय कोई भी प्रेगनेंट है या फिर दूसरी प्रेगनेंसी के समय जुड़वा बच्चे होते हैं तो वह इस कानून के दायरे में नहीं आएंगे। इसके साथ ही तीसरे बच्चे को गोद लेने पर छूट भी प्रदान की जाएगी। ऐसे में किसी भी प्रकार की रोकथाम नहीं की जाएगी।