nasal aspergillosis

Nasal Aspergillosis: ब्लैक फंगस के बाद नेसल एस्परगिलोसिस का खतरा, गुजरात में मिले 8 नए केस

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Nasal Aspergillosis: पिछले कुछ महीनों में कोरोना महामारी के बाद जहाँ black, white और yellow fungus से लोग जूझ रहे हैं, वहीं अब एक नये इंफेक्शन nasal aspergillosis से भी उन्हें खतरा है। गुजरात के वड़ोदरा में इसके 8 मामले सामने आ चुके हैं। ये बीमारी अब उन मरीजों को भी हो रही है, जो कोविड से ठीक हो गए हैं या उनका इलाज चल रहा है।

क्या है nasal aspergillosis

यह एक इंफेक्शन है जो aspergillus fungus की वजह से होता है। यह सबसे पहले फेफड़ों पर प्रभाव डालता है। यह इंफेक्शन बाकी इंफेक्शन से ज्यादा गंभीर और अलग है। यह घर के अंदर और बाहर दोनों जगह पाया जा सकता है। यह तब भी होता है जब आपका इम्युनिटी सिस्टम कमजोर हो।

Unlock in Bhopal: भोपाल में अनलॉक की प्रकिया इस दिन से होगी शुरू, देखें पहले क्या खुलेगा

अभी तक कितने केस सामने आए हैं

इस इंफेक्शन की पहचान सबसे पहले गुजरात के वड़ोदरा में हुई। वड़ोदरा के SSG अस्पताल में ब्लैक फंगस के 262 मरीजों का इलाज चल रहा है, जिनमें से 8 मरीजों में यह इंफेक्शन पाया गया है।

इंफेक्शन बढ़ने का कारण

इस फंगल इंफेक्शन के बढ़ते मामलों के पीछे कोविड रोगियों के इलाज में यूज होने वाले बढ़ते स्टेरॉयड्स की मात्रा के साथ ही ऑक्सिजन सप्लाई को हाइड्रेट करने के लिए नॉन स्टराइल वॉटर का भी यूज होता है। SSG अस्पताल में ही मल्टी ड्रग्स रेजिस्टेंस यीस्ट इंफेक्शन कैंडिडा ऑरिस के 13 मामले सामने आए हैं।

READ:  Delhi unlocking from 31st May, Read govt's Latest order

Yellow Fungus: Black Fungus और White Fungus के बाद अब Yellow Fungus का भी खतरा, देश में यहां मिला पहला मरीज

साइनस aspergillosis का रेयर केस

शहर और जिला प्रशासन के लिए कोविड -19 के सलाहकार डॉ शीतल मिस्त्री ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा, ‘पलमोनरी एस्परगिलोसिस(nasal aspergillosis) आमतौर पर इम्यूनो-कॉम्प्रोमाइज्ड मरीजों में देखा जाता है, लेकिन साइनस का एस्परगिलोसिस रेयर है। ये बीमारी अब उन मरीजों को भी हो रही है, जो कोविड से ठीक हो गए हैं या उनका इलाज चल रहा है। हालांकि एस्परगिलोसिस ब्लैक फंगस (म्यूकोर्मिकोसिस) जितना खतरनाक नहीं है।

क्यों हुई नाइट कर्फ्यू में ढील

सरकार ने बुधवार को मामले कम हो जाने की वजह से 36 शहरों में नाइट कर्फ्यू की छूट दे दी। जबकि दिन में पहले के जैसा ही कर्फ्यू लगाया जाएगा। अप्रैल में 14,600 मामले आये थे और वर्तमान में 3,200 मामले हर दिन सामने आ रहे हैं।

READ:  फेरे से ठीक पहले हुई दुल्हन की मौत, उसी मंडप में दूल्हे ने बहन से रचाई शादी

मुख्यमंत्री ने क्या कहा?

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए अलर्ट है और इससे निपटने के लिए एक बड़े स्तर पर प्लान की घोषणा जल्द ही करी जाएगी। आंकड़ों के अनुसार, मंगलवार को गुजरात में कोरोना वायरस के 3,255 नए मामले आए थे और 44 मरीजों की मौत हुई थी जिसके बाद कुल मामलों की संख्या बढ़कर 7,94,912 हो गई और मरने वालों की संख्या 9,665 हो गई।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

%d bloggers like this: