पीएम मोदी ने बताए गले मिलने के मायने, पढ़ें भाषण की खास बातें

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

‌नई दिल्ली, 21 जुलाई।। रिपोर्ट- आयुष ओझा। संसद में शुरू हुए मानसून सत्र के तीसरे दिन सदन में हुई बहस का नजारा देखने लायक था। ये पहला ऐसा मौका था जब लोगों ने सदन की बहस के दौरान उत्साहित होकर देखा हो। दरअसल, अविश्वास प्रस्ताव को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ‘भूंकप ला देने वाली’ स्पीच के चलते एक अलग ही माहौल बना। राहुल गांधी स्पीच खत्म हुई तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक-एक अपने विरोधियों के जवाब दिए।

प्रधानमंत्री मोदी ने राहुल गांधी की आँख मारने वाली बात का भी जवाब दिया और कांग्रेस की खामियों को गिनाते हुए कहा कि देश कांग्रेस का इतिहास जानता है मेरी हिम्मन नहीं कि मैं उनकी आँखों में आँखें डाल कर देख सकूं। पीएम मोदी के भाषण के बाद लोकसभा अध्यक्ष ने वोटिंग के लिए कहा। वोटिंग में एनडीए के पक्ष में 325 सदस्यों ने वोट किया। जबकि विरोध में मात्र 126 वोट पड़े।

यह भी पढ़ें: क्या है राहुल गांधी की ‘भूकंप स्पीच’ के मायने, पढ़ें भाषण की 10 खास बातें

‌पीएम मोदी के 90 मिनट के भाषण की खास बातें-

‘भूकंप स्पीच’ पर करारा जवाब
पीएम मोदी अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दे पर कहा कि, अविश्वास प्रस्ताव हमारे लोकतंत्र की महत्वपूर्ण शक्ति का प्रतीक है। इस सबके दौरान देश को ये देखने को मिला है कि कैसी नकारात्मक राजनीति ने लोगों को घेर कर रखा है। ये अहंकार ही है जो कहता है कि हम खड़े होंगे तो पीएम 15 मिनट भी खड़े नहीं होंगे। अध्यक्ष महोदया मैं खड़ा भी हूं और पिछले चार साल में जो किया है उस पर अड़ा भी हूं।

ALSO READ:  गुजरात राज्य सभा चुनाव: कांग्रेस विधायकों को खरीद रही बीजेपी या सता रहा क्रॉस वोटिंग का डर!

गले मिलने के मायने
इसके बाद पीएम मोदी ने राहुल गाँधी के गले मिलने पर तंज कसते हुए कहा कि अभी तो चुनाव भी नहीं हुए , उसके नतीजे भी नहीं आये। जय-पराजय भी नहीं हुई फिर भी कुछ लोगो को लोकतंत्र में कुर्सी की जल्दबाजी क्यों ? आगे पीएम ने कहा कि लोकतंत्र में 125 करोड़ जनता तय करेगी कि यहाँ पर कौन बैठेगा, हम और आप कौन है? लोगों को थोड़ा धीरज रखना चाहिये।

ब‌ीच में रोकना पड़ा भाषण
लोकसभा में पीएम के भाषण के दौरान विपक्ष लगातार हंगामा करता रहा जिसके चलते पीएम मोदी को कुछ देर के लिए अपना भाषण रोकना पड़ा। कुछ देर तक रुकने के बाद जब पीएम मोदी ने अपना भाषण शुरू किया तो लगातार नारेबाजी होती रही। आंध्र प्रदेश से टीडीपी के सांसदों ने लगातार सदन में नारेबाजी की और पीएम के भाषण में अवरोध पैदा करने की कोशिश की, लेकिन मोदी फिर भी बोलते रहे।

यह भी पढ़ें: 2019 में BJP की सरकार बनने के बावजूद नरेंद्र मोदी नहीं बन पाएंगे प्रधानमंत्री?

सवा सौ करोड़ देशवासियों का आशीर्वाद
पीएम ने कहा कि हम यहाँ इसलिए हैं कि हमारे पास संख्याबल है। हमारे पास सवा सौ करोड़ देशवासियों का आशीर्वाद है। उन्होंने कहा कि अपने स्वार्थ सिद्धि के लिए कांग्रेस के लोग देशवासियों के विश्वास के साथ खिलवाड़ ना करें। बिना तुष्टिकरण किए, बिना वोट बैंक की राजनीति किए हम सबका साथ सबका विकास के मंत्र पर काम करते रहे।

ALSO READ:  PM मोदी के 'डिजिटल इंडिया' पर आज भी भारी नज़र आती है अखिलेश यादव की लैपटॉप वितरण योजना !

पीएम मोदी ने गिनाई ये योजनाएं
पीएम मोदी ने कहा, पिछले चार वर्षों में उस वर्ग और क्षेत्र में काम किया जिसके पास चमक-दमक नहीं थी। हमने 18 हजार गांवों में बिजली पहुंचाने का काम हमारी सरकार ने किया है। पीएम मोदी ने कहा कि बैंकों के राष्ट्रीयकरण से लेकर 2014 तक गरीबों के लिए बैंकों के दरवाजे बंद थे। हमने माताओं बहनों के लिए 8 करोड़ शौचालय बनाने का काम किया है। हमने साढ़े चार करोड़ उज्ज्वला योजना के तहत गैस चूल्हा वितरण किया है।

किसानों की आय दोगुनी करने की बात
प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि बीते दो वर्षों में पांच करोड़ देशवासी गरीबी से बाहर आए है। आने वाले दिनों में आयुष्मान भारत योजना के तहत पांच लाख रुपये तक की बीमारी में मदद करने का विश्वास हमारी सरकार ने दिया है। लेकिन विपक्ष को इसका भी विश्वास नहीं है। हम 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने की बात कह रहे हैं। इस पर भी विपक्ष को विश्वास नहीं है।

ALSO READ:  Explained: Worsening India-Nepal relations, a timeline

यह भी पढ़ें: देश में एक साथ चुनाव चाहते हैं PM मोदी… जानिए आखिर कितना संभव है ये

विपक्ष को हमारी बातों पर विश्वास नहीं
80 करोड़ रुपये से ज्यादा की 99 सिंचाई योजनाओं को पूरा करने का काम चल रहा है। लेकिन इसपर भी इनका यानि विपक्ष का विश्वास नहीं है। हमने 15 करोड़ किसानों को मृदा हैल्थ कार्ड पहुंचाया है। हमने 13 करोड़ नौजवानों को नौकरी देने का काम किया है। इतने काम करने के बावजूद भी विपक्ष को हमारी बातों पर भरोसा नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि किसानों से जितना लिया गया उससे तीन गुना हमने उन्हें लौटाया है।

राफेल सौदे पर दी सफाई
पीएम मोदी ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए राफेल सौदे वाले मुद्दे पर गहरी निराशा व्यक्त करते हुए कहा कि अध्यक्ष महोदया यह सौदा दो कंपनियों के बीच का नहीं बल्कि दो देश की सरकारों के बीच का सौदा है, इस तरह की बयानबाजी से दो देश के बीच के संबंध बिगड़ सकते है। ये बहुत दु:खद है कि आपकी इस तरह की गलत बयानबाजी से दोनों देशों को आकर आधिकारिक तौर पर इसका खंडन करना पड़ा।

समाज और राजनीति की अन्य खबरों के लिए हमें फेसबुक पर फॉलो करें-www.facebook.com/groundreport.in/