Delhi Elections: दिल्ली में क्या है मुस्लिम मतदाता का समीकरण, समझिये…

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report, New Delhi |

दिल्ली की सियासत में मुस्लिम मतदाता 12 फीसदी के करीब हैं। दिल्ली की कुल 70 में से 8 विधानसभा सीटों को मुस्लिम बहुल माना जाता है, जिनमें बल्लीमारान, सीलमपुर, ओखला, मुस्तफाबाद, चांदनी चौक, मटिया महल, बाबरपुर और किराड़ी सीटें शामिल हैं। इन विधानसभा क्षेत्रों में 35 से 60 फीसदी तक मुस्लिम मतदाता हैं। साथ ही त्रिलोकपुरी और सीमापुरी सीट पर भी मुस्लिम मतदाता काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं।

बता दें कि 2015 के विधानसभा चुनाव में मुस्लिम समुदाय की दिल्ली में पहली पसंद AAP बनी थी। इसका नतीजा रहा कि मुस्लिम बहुल सीटों पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवारों ने कांग्रेस के दिग्गजों को करारी मात देकर कब्जा जमाया था। आम आदमी पार्टी ने सभी मुस्लिम बहुल इलाकों में जीत का परचम फहराया था।

बता दें कि, दिल्ली विधानसभा में कुल 70 सीटें हैं। इन 70 सीटों में से 58 सामान्य वर्ग के लिए तो 12 सीटें अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित हैं। 14 जनवरी से 21 जनवरी तक नामांकन की तिथि नियत की गई थी जबकी नामांकन पत्रों की जांच परख 22 जनवरी को और नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि 24 जनवरी तय की गई थी। वहीं इस चुनाव में करीब 1 लाख कर्मचारियों की तैनाती की गई थी। चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक, दिल्ली की कुल 70 विधानसभा सीटों के लिए 2689 जगहों पर वोटिंग हुई जिसके लिए कुल 13750 पोलिंग बूथ तैयार किए थे।