मुम्बई में भारी बारिश से आफ़त, रेड अलर्ट जारी

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एम.एस.नौला | मुंबई

मुंबई के पास बदलापुर -वांगनी के बीच महालक्ष्मी एक्सप्रेस फंसी।

800 यात्रियों को रेस्क्यू किया गया। 14 घंटे से ज्यादा वक्त लगा

NDRF , सेना राहत कार्य में लगी हैं। गर्भवती महिलाएं, बच्चे और बीमार भी हैं ट्रेन में।

पिछले 24 घंटे से ज्यादा वक्त से मुंबई और आसपास के इलाकों में हो रही मूसलाधार वर्षा ने मुंबई और आसपास के इलाकों का जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। बारिश के दौरान सबसे बड़ी घटना मुंबई से लगभग 100 किलोमीटर दूर बदलापुर और वांगनी के बीच पटरियों में लगभग 2 फीट पानी भर जाने की वजह से महालक्ष्मी एक्सप्रेस के फंस जाने की है।

इस ट्रेन में लगभग 2000 यात्री बताए जाते हैं। देर रात 3:00 बजे के करीब फंसे यात्रियों को रेस्क्यू करने के लिए एनडीआरएफ नौसेना और हवाई सेना के जवान जुट गए हैं। इन सभी ने मिलकर अभी तक लगभग 800 यात्रियों को रेस्क्यू करने में सफलता पाई है । यात्रियों को बोट और हेलीकॉप्टर की सहायता से रेस्क्यू किया जा रहा है। यह ट्रेन पिछले 14 घंटे से अधिक समय से फंसी हुई है।

ALSO READ:  Mumbai rains: Massive flooding and destruction after heavy rain; NDRF teams deployed

लगभग 200 से अधिक यात्री अभी भी ट्रेन में फंसे हुए हैं। इनमें से कई यात्री बीमार हैं और कुछ महिलाएं गर्भवती हैं। रेलवे सूत्रों के अनुसार इन लोगों की मदद के लिए डॉक्टरों की टीम भेज दी गई है जिनमें गायनेकोलॉजिस्ट भी हैं। साथ में रेलवे पुलिस और अधिकारी भी हैं। यात्रियों को खाने पीने की वस्तुएं मुहैया कराई जा रही है।
सवाल उठाया जा रहा है कि जब मौसम विभाग में भारी वर्षा की चेतावनी जारी कर दी थी तो फिर भी ट्रेन क्यों रवाना की गई?
वैसे भी भारी वर्षा के चलते मुंबई और आसपास के इलाकों में पानी भर गया था। थाना, कल्याण, बेलापुर, डोंबिवली आदि इलाके जलमग्न हो चुके थे।

ALSO READ:  Mumbai rains: Massive flooding and destruction after heavy rain; NDRF teams deployed

मूसलाधार बरसात के चलते मुंबई एक बार फिर पानी पानी हो गई है। बारिश के चलते लोकल ट्रेन के अलावा मेल ट्रेनों की आवाजाही भी प्रभावित हुई है। अपने अपने बस्तर और कार्यक्षेत्र में गए लोगों को अपने घर पहुंचने में बहुत परेशानियों से जूझना पड़ा। जगह जगह पर जाम लग गए थे। शुक्रवार से लगातार हो रही बरसात से कई इलाकों में पानी भर गया है। एयरपोर्ट से मिली जानकारी के अनुसार बारिश की वजह से 7 उड़ानें रद कर दी गईं और 17 फ्लाइट्स का रूट डायवर्ट कर दिए गए।

एहतियातन तौर पर मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे के दौरान रायगढ़, सिंधुदुर्ग और रत्नागिरी के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। मुंबई, नवी मुंबई, ठाणे, पालघर में 26 और 28 जुलाई को रेड अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने अगले चार घंटों में ठाणे, रायगढ़ और मुंबई में 50-60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावनाएं व्यक्त की है। महाराष्ट्र शासन ने लोगों को समुद्र और पानी भरे हुए इलाकों से दूर रहने की सलाह दी है।

ALSO READ:  Mumbai rains: Massive flooding and destruction after heavy rain; NDRF teams deployed

बारिश के कारण अस्तव्यस्त हुई मुंबई ने एक बार फिर से बृहन्मुंबई महानगरपालिका और प्रशासन के वादों पर प्रश्नचिन्ह खड़ा कर दिया है। बरसात से पहले बीएमसी ने कहा था कि उसने मानसून से निपटने की तैयारी कर ली है लेकिन यह तीसरी दफा है जब बारिश के चलते इसी मानसून में मुंबई के लोग हताहत हो गए हैं। मुंबई ही नहीं मुंबई से सटे नवी मुंबई थाने पालघर आदि इलाकों में बारिश ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है।