MPElections2018: सुदेश राय सहित इन तीन निर्दलीय विधायकों पर बीजेपी ने लटकाई तलवार

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भोपाल, 29 अक्टूबर। एक ओर जहां सर्दियां दस्तक दे चुकी हैं वहीं दूसरी ओर मध्य प्रदेश चुनाव 2018 के चलते राज्य में सियासी पारा चढ़ा हुआ है। कांग्रेस, भाजपा और आम आदमी पार्टी सहित अन्य राजनैतिक दलों में टिकट को लेकर गहमा-गहमी का माहोल है। वहीं उम्मीद यह भी जताई जा रही है कि बीजेपी और कांग्रेस से टिकट कटने पर कुछ नेता निर्दलीय ही मैदान में उतर सकते हैं।

इन सबसे इतर मध्य प्रदेश चुनाव 2013 में निर्दलीय चुनाव जीत मध्य प्रदेश विधानसभा पहुंचे तीन विधायकों को लेकर बीजेपी में अब तक यह स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है कि इस बार इन्हें बीजेपी से टिकट मिलेगा या नहीं। इन तीन निर्दलीय विधायकों में सीहोर विधानसभा से सुदेश राय, सिवनी विधानसभा से दिनेश राय मनमून और थांदला विधानसभा से कलसिंह भंवर जैसे नेताओं के नाम शामिल है।

यह भी पढ़ें: शिवराज के गढ़ में लोगों को नहीं पता मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री कौन है?

यूं तो ये तीनों विधायक बीजेपी के बागी उम्मीदवारों में से हैं लेकिन 2013 में चुनाव जीतने के बाद बीजेपी ने इन्हें अपने पाले में रख भरोसा दिलाया था कि 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान इन्हें बीजेपी से टिकट दिया जाएगा। हांलाकि यह स्थिति पार्टी की ओर से अब तक स्पष्ट नहीं हो पाई है कि इस बार बीजेपी इन्हें टिकट देगी भी या नहीं।

READ:  Suwasra seat results 2020: बीजेपी उम्मीदवार की धमाकेदार जीत, कांग्रेस को 29,440 वोटों से हराया

कलसिंह भंवर और दिनेश मनमून काफी पहले ही बीजेपी की सदस्यता ले चुके हैं लेकिन ग्राउंड रिपोर्ट से बातचीत में अपने आप को बीजेपी का कट्ठर कार्यकर्ता बताने वाले सुदेश राय बीजेपी की सदस्यता लेने की स्थिति अब तक स्पष्ट नहीं कर पाए हैं। वहीं युवा नेता अर्पित शर्मा और अन्य पार्टी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बीजेपी एक-दो दिन के भीतर ही अगली लिस्ट जारी करेगी, लेकिन इन निर्दलीय विधायकों को टिकट मिलेगा ही, इस बात की पुष्टी पार्टी सूत्र भी करने से कतरा रहे हैं।

यह भी पढ़ें: Petrol Price @100: मध्य प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में 100 Rs/Ltr हुआ पेट्रोल

हांलाकि, टिकट बंटवारे के दौरान बीजेपी इन विधायकों पर क्या स्टेंड लेगी यह तो लिस्ट जारी होने के बाद ही पता चलेगा। लेकिन इतना तय माना जा रहा है कि बीजेपी अपने उन कार्यकर्ताओं को भी नाराज़ नहीं करेगी जो वर्षों से पार्टी से जुड़े रहे हैं।

सुदेश राय, सीहोर विधानसभा से विधायक
सुदेश राय सीहोर जिले की चार विधानसभा (सीहोर, बुदनी, आष्टा, इछावर) में से एक सीहोर से विधायक हैं। शहर के एक मात्र सिनेमा हॉल लीसा टॉकीज, और क्रिसेंट वॉटर पार्क के मालिक हैं। शराब कारोबारी होने के साथ ही कई अन्य व्यपार भी हैं। शिवराज सरकार के दबाव के चलते पार्टी की ओर झुकाव लेकिन अब तक बीजेपी की सदस्यता नहीं ली है। कयास इस बात के भी लगाए जा रहे हैं कि अगर इन्हें बीजेपी से टिकट नहीं मिला तो कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं।

READ:  Facebook : BJP नेताओं की हेट स्पीच को फेसबुक करता है प्रोमोट ?

Madhya Pradesh Election 2018: देखिए सीहोर विधायक सुदेश राय के साथ हमारा खास इंटर्व्यू

वहीं पैनल सर्वे में बीजेपी की ओर से इस बार सीहोर से चार बार विधायक रह चुके बीजेपी नेता रमेश सक्सेना की पत्नी उषा सक्सेना का नाम पहले नंबर पर चल रहा है। वहीं इस पैनल में सुदेश राय दूसरे जबकि जसपाल अरोड़ा और सन्नी महाजन जैसे नेता क्रमश: तीसरे और चौथे पायदान पर हैं।

दिनेश राय मनमून, सिवनी विधानसभा से विधायक
मुख्य रूप से शराब का कारोबार करने वाले दिनेश राय मनमून सिवनी जिले की चार विधानसभा (सिवनी, बरघाट, केवलारी, लखनादौन) में से एक सिवनी से विधायक हैं। पिछले चुनाव में निर्दलीय जीते। सरकार के दबाव के चलते बीजेपी का दामन थामा। पार्टी की सदस्यता भी ली। क्षेत्र में कमजोर पकड़ और काम पूरे न कर पाने पर जनता में मनमून के खिलाफ काफी आक्रोश है।

वहीं सिवनी सीट से बीजेपी के पैनल में नंबर एक पर राकेश त्रिवेदी, दूसरे स्थान पर सुजीत जैन का नाम है, जबकी दिनेश राय मनमून इस पैनल में तीसरे पायदान पर है। हांलाकि मनमून का कहना है पार्टी जो निर्णय लेगी वो स्वीकार्य होगा वहीं दूसरी ओर कांग्रेस भी इन पर जोर आजमाइश करती नज़र आ रही है।

READ:  घर के दरवाज़े पर आएगा एटीएम, पैसा निकालने नहीं जाना होगा बाहर

Madhya Pradesh Election 2018: देखिए सीहोर पूर्व विधायक रमेश सक्सेना के साथ हमारा खास इंटर्व्यू

कलसिंह भंवर, थांदला विधानसभा से विधायक
कलसिंह भंवर झाबुआ की तीन विधानसभा (झाबुआ, थांदला, पेटलावद) में से एक थांदला विधानसभा सीट से निर्दलीय विधायक हैं। यूं तो कलसिंह भंवर बीजेपी के ही पुराने नेताओं में से एक हैं लेकिन पिछली बार पार्टी से टिकट न मिलने पर बागी तेवर अख्तियार किए और न सिर्फ निर्दलीय मैदान में कूदे बल्की जीत भी दर्ज की।

हांलाकी जीत के बाद एक बार फिर बीजेपी का दामन थामने वाले निर्दलीय विधायक कलसिंह भंवर का अपने क्षेत्र में काफी विरोध है। लोगों के काम समय से पूरे न कर पाने पर बैकफुट पर नजर आ रहे कलसिंह भंवर पर बीजेपी टिकट को लेकर अब तक अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं कर पाई है। सर्वे में थांदला से आरडी प्रजापति और रामदयाल अहिरवार के नामों की चर्चा जोरों पर हैं।

Madhya Pradesh Election 2018: देखिए सीहोर के दिग्गज नेता जसपाल अरोड़ा के साथ हमारा खास इंटर्व्यू

देखें सीहोर से ग्राउंड रिपोर्ट-