Home » मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना पॉज़िटिव

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना पॉज़िटिव

madhya-pradesh-shivraj-singh-chouhans-wealth-has-increased-13-times-in-14-years-owner-of-so-many-crores-35621
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कोरोना रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। इस बात की जानकारी उन्होंने खुद ट्वीट कर दी है। ट्वीट में शिवराज सिंह चौहान ने लिखा है कि-


मेरे प्रिय प्रदेशवासियों, मुझे #COVID19 के लक्षण आ रहे थे, टेस्ट के बाद मेरी रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। मेरी सभी साथियों से अपील है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं, वह अपना कोरोना टेस्ट करवा लें। मेरे निकट संपर्क वाले लोग क्वारन्टीन में चले जाएँ। मैं कोरोना गाइडलाइन का पूरा पालन कर रहा हूं. डॉक्टर की सलाह के अनुसार स्वयं को क्वारंटाइन करूंगा और इलाज कराऊंगा।

-शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री म.प्र

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मेरी प्रदेश की जनता से अपील है कि सावधानी रखें, जरा सी असावधानी कोरोना को निमंत्रण देती है। मैंने कोरोना से सावधान रहने के हर संभव प्रयास किए लेकिन समस्याओं को लेकर के लोग मिलते ही थे। मेरी उन सब को सलाह है कि जो मुझसे मिले, वह अपना टेस्ट करवा लें।

मध्यप्रदेश कई नेता, विधायक और मंत्री भी कोरोना पॉज़िटिव

मध्य प्रदेश के कैबिनेट मंत्री अरविंद भदौरिया की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिविट आई। सहकारिता मंत्री भदौरिया बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में शामिल हुए थे। इसके साथ ही वे लखनऊ में राज्यपाल लालजी टंडन के अंतिम संस्कार में भी शामिल हुए थे। सीएम शिवराज सिंह चौहान के साथ ही वे विशेष विमान से अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे थे। इसके पहले राज्य में चार बीजेपी विधायक और तीन कांग्रेस विधायक वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। मध्यप्रदेश सरकार के कई अधिकारी भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं।

READ:  Mother and son hanged themselves : मां बेटे मिले फांसी के फंदे पर लटके, पुलिस ने जताई घरेलू मतभेद की आशंका

मध्यप्रदेश में कोरोना का कोहराम

मध्यप्रदेश में कोरोनावायरस के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। राज्य में कुल 26 हज़ार 210 मामले सामने आ चुके हैं। राज्य की राजधानी भोपाल और इंदौर शहर कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित हैं। भोपाल में 24 जुलाई से 10 दिन का टोटल लॉकडाउन भी लगाया गया है। राज्य में टेस्टिंग की रफ्तार भी धीमी है। कांटेक्ट ट्रेसिंग का भी पालन सही से नहीं किया जा रहा है। अगर जल्द मध्यप्रदेश के हालात पर काबू नहीं किया गया तो स्थिति गंभीर रुप ले सकती है।

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.