Tue. Oct 15th, 2019

भटकती रही एक माँ अपने AIDS पीड़ित बच्चे के अंतिम संस्कार के लिए

एम.एस.नौला | महाराष्ट्र

महाराष्ट्र के बीड जिले में एक एड्स पीड़ित बच्चे की मौत के बाद उसकी मां को उसके अंतिम संस्कार करने से रोक दिया गया। गांव वालों द्वारा उस 12 वर्षीय बच्चे की मृत्यु के पश्चात गांव में अंतिम संस्कार की अनुमति नहीं दिए जाने पर उसकी मां ने इंफैट इंडिया नामक संस्था से संपर्क किया।यह संस्था एड्स पीड़ित बच्चों के लिए काम करती है।संस्था की मदद से उसकी मां अपने बेटे का अंतिम संस्कार कर पायी।

मिली जानकारी के मुताबिक इस 42 साल की एड्स पीड़ित महिला को गांव वालों ने बहिष्कृत कर रखा था। इतना ही नहीं पुलिस में इस बाबत रिपोर्ट दर्ज कराने पर मारने की धमकी दी गई थी। इसके पहले उसके बड़े बेटे की मौत 6 साल पूर्व हो गई थी। जैसे तैसे अपने बच्चे के साथ बहिष्कृत जिंदगी गुजार रही इस महिला पर दूसरे बच्चे की मौत से टूट चुकी उस अभागी मां पर एक और कहर तब टूट पड़ा जब गांव वालों उसे अपने बच्चे की अंतिम संस्कार की अनुमति नहीं दी। संस्था की मदद के चलते अपने गांव से तकरीबन 50 किलोमीटर की दूरी पर उसे बेटे का अंतिम संस्कार करना पड़ा। खबर इस बात का खुलासा भी करती है कि एड्स पीड़ितों के प्रति लोगों का रवैया कितना अमानवीय है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: