Home » कश्मीर में सेना की 100 टुकड़ियों की तत्काल तैनाती किस ओर इशारा कर रही है?

कश्मीर में सेना की 100 टुकड़ियों की तत्काल तैनाती किस ओर इशारा कर रही है?

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

न्यूज़ डेस्क।। पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच बड़े तनाव ने LOC के दोनों और रहने वाले लोगों में चिंता बढ़ा दी है। अलजज़ीरा में छपी रिपोर्ट के मुताबिक पाक अधिकृत कश्मीर में लोगों ने सुरक्षित स्थानों पर जाना शुरू कर दिया है।

इधर जम्मू कश्मीर में देर रात अलगाववादी नेता की गिरफ्तारी के बाद केंद्र सरकार ने बड़े पैमाने पर अर्धसैनिक बलों को घाटी में भेजा है। मिली जानकारी के मुताबिक गृह मंत्रालय ने अर्द्धसैनिक बलों की 100 टुकड़ियों को ‘अर्जेंट नोटिस’ पर घाटी में भेजा है। इसमें सीआरपीएफ की 35, बीएसएफ की 35, एसएसबी की 10 और आईटीबीपी की 10 कंपनियां शामिल है।

गृह मंत्रालय द्वारा जम्मू-कश्मीर के गृह सचिव, मुख्य सचिव और डीजीपी को भेजे गए फैक्स में कहा गया है कि घाटी में तत्काल प्रभाव से इन बलों की तैनाती की जानी है। 22 तारीख को भेजे गए इस फैक्स में सीआरपीएफ को इन बलों की तत्काल रवानगी की व्यवस्था करने को कहा गया है। इतने बड़े पैमाने पर सुरक्षा बलों की तैनाती क्यों की जा रही है इसका खुलासा नहीं किया गया है। लिहाजा अटकलों का बाजार गर्म हो गया है।

READ:  Situation in J&K not normal: Farooq Abdullah

अंदाज़ा लगाया जा रहा है कि जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 35 A को खत्म किया जा सकता है। आर्टिकल 35A संविधान में कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करता है। 35A को बनाये रखने अथवा संशोधन करने की याचिका पर सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। जिस पर आगामी 25 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट फैसला सुना सकता है। अगर फैसला 35A के खिलाफ आता है, तो घाटी में माहौल खराब होने की संभावना है। सैनिकों की तैनाती इस बाबत भी की जा सकती है। इसे युद्ध से जोड़ कर देखना फिलहाल ठीक नहीं लगता।