क्यों क्रेडिट कार्ड पर मोरेटोरियम है घाटे का सौदा?

Credit Card Bill Payment in lockdown
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk

कोरोनावायरस की वजह से हुए लॉकडाउन ने हमारी सभी फाईनेंशियल प्लानिंग पर पानी फेर दिया है। कई लोग इस समय क्रेडिट कार्ड (Credit card Moratorium) का बिल भरने में मुश्किलों का सामना कर रहे हैं। ऐसे लोगों के लिए रिज़र्व बैंक ने 3 महीने के मोरेटोरियम का विकल्प दिया है। यानि आप तीन महीने चाहें तो ईएमआई से निजात पा सकते हैं। लेकिन 3 महीने तक आप को ब्याज चुकाना होगा। रिज़र्व बैंक ने पर्सनल, कार होम लोन ईएमआई पर मोरेटोरियम अवधि 3 माह के लिए और बढ़ा दी है। अब यह बढ़कर 31 अगस्त 2020 तक हो गई है। इसमें क्रेडिट कार्ड की ईएमआई भी शामिल है। यानि आप अब चाहें तो क्रेडिट कार्ड का भुगतान 31 अगस्त के बाद कर सकते हैं। लेकिन एक्सपर्ट्स का मानना है कि यह विकल्प घाटे का सौदा साबित होगा।

दरअसल बैंक क्रेडिट कार्ड के बकाया पर 48% तक की दर से ब्याज वसूलते हैं। ऐसे में कार्ड धारकों के लिए मोरेटोरियम नहीं लेना या न्यूनतम भुगतान का विकल्प चुनना फायदे का सौदा हो सकता है। रिजर्व बैंक ने जिस राहत का ऐलान किया है उसके दायरे में मूलधन का भुगतान आता है। मुमकिन है कि बैंक रिपेमेंट पीरियड में उपभोक्ता से चक्रवृद्धि ब्याज लें। ऐसा होने पर मोराटोरियम पीरियड खत्म होने के बाद खासतौर पर क्रेडिट कार्ड कस्टमर्स पर भारी भुगतान करना होगा। एक अनुमान के मुताबिक, अगर किसी क्रेडिट कार्ड कस्टमर पर बैंक का 40 हजार रुपया बकाया मार्च में था और वह 31 अगस्त, 2020 तक मोरेटोरियम का लाभ लेता है तो उसे करीब 48,000 रुपये चुकाने होंगे। इसमें बकाया पर ब्याज और जीएसटी शुल्क शामिल होगा।

ALSO READ:  नहीं चुकानी पड़ेगी अगले तीन महीने EMI?

क्रेडिट कार्ड पर मोरेटोरियम का लाभ तभी लें जब आप वित्तीय संकट में फंसे हों। आपके पास क्रेडिट कार्ड बिल भुगतान करने का पैसा नहीं हो तो यह विकल्प सही है। इसको लेने से आपका क्रेडिट स्कोर खराब नहीं होगा। वहीं, बिल नहीं भुगतान करने के बाद भी बैंक आपके कार्ड को ब्लॉक नहीं करेंगे। बैंक आपसे बकाया पर देरी से भुगतान करने पर कोई पेनल्टी नहीं लगा पाएंगे।

ग्राउंड रिपोर्ट के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.