Home » निचली जाति का कह कर भोज से उठाया, विरोध करने पर पीटा, पुलिस से भी नहीं मिली मदद!

निचली जाति का कह कर भोज से उठाया, विरोध करने पर पीटा, पुलिस से भी नहीं मिली मदद!

निचली जाति का कह कर भोज से उठाया ! विरोध करने पर पीटा, पुलिस से नहीं मिली कोई सहायता !
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ground Report | News Desk | Casteism | Caste based violence | जहाँ एक तरफ भारत को विश्वगुरु बनाये जाने की बात कही जा रही, तो वही दूसरी तरफ से जाति (caste) के नाम पर हो रहे अत्याचार की खबरें आना आज के दौर में भी थम नहीं रही है। ऐसी जगह जहाँ बुद्ध को सम्बोधि मिली, वहां पर जाती के आधार पर नाबालिगों की बेइज़त्ती कर पंगत से उठा दिया गया और विरोध करने पर पीटा भी। मामला बोधगया के मगध यूनिवर्सिटी के थाना क्षेत्र पड़रिया गाँव का है।

चिराग पासवान के चचेरे भाई सांसद प्रिंस राज पर लगा यौन शोषण का आरोप !

इस पूरी बात को खत्म करने के लिए गाँव में पंचायत भी बुलाई गयी थी पर दो में से एक पक्ष की गैरमौजूदगी की वजह से कोई हल नहीं निकल पाया, जिसके बाद नाबालिगों के पक्ष वाले लोग मगध यूनिवर्सिटी के थाने गए पर वहां भी उनकी फरियाद नहीं सुनी गयी और दोपहर बाद आने के लिए कह दिया और बात टाल दी गयी। बोधगया की यह घटना साफ़ दर्शाती है की आज भी ग्रामीण क्षेत्रों में किस प्रकार नीची जातिओं (caste) के लोगों के साथ अत्याचार किया जा रहा है। जब मीडिया कर्मियों ने थाना अध्यक्ष रेखा कुमारी से फ़ोन पर बात की तो पता चला की इस मामले की उनके पास कोई जानकरी नहीं है।

READ:  zika virus New Update: जीका वायरस के लक्षण व बचने के उपाय

पड़रिया गाँव में किसी व्यक्ति का तिलक समारोह चल रहा था, रात में लगभग 10 बजे जब गाँव के सारे लोग पंगत में बैठ कर खाना खिलाया जा रहा था। उस पंगत में सभी जाती के लोग बैठ कर खाना खा रहे थे। पीड़ित प्रमेंद्र कुमार ने जानकारी देते हुए बताया की वह और उसके सभी भाई पंगत में खाना खाने के लिए बैठे थे तो कुछ लोगों ने कह दिया की छोटी जाति के व्यक्ति ऊँची जाति के लोग साथ में बैठ कर नहीं खाते। उन पर ये आरोप तक लगा दिया गया की वह धरती को अपवित्र कर रहे। जब नाबालिगों ने इस पूरे कृत्य का विरोध किया तो गरमा गर्मी और बढ़ गयी, मामला मार पीट तक जा पहुंचा जिसके बाद वह सभी किसी तरह से अपनी जान बचा कर वहां से भाग गए। मामला यही नहीं थमा, सुबह होने पर ऊँची जाति के लोगों ने घेरकर पिटाई की।

शराब माफिया से धमकी के बाद पत्रकार की रहस्यमय मौत !

जैसे ही ये मामले की खबर पूरे गाँव में पहुंची, तो गाँव दो पक्षों में बँट गया। पड़रिया के मुखिया राजेंद्र द्वारा पंचायत बुलाई गयी, पर एक घंटे तक पंचायत चलने के बावजूद कोई हल नहीं निकल पाया क्योकि नाबालिगों द्वारा जिस पक्ष पर आरोप लगाया था वह वहां पर मौजूद ही नहीं था। इधर, पीड़ित प्रमेंद्र के पिता मद्धेश्वर पासवान ने कहा है की वह फरियाद लेकर थाने गए थे। दोपहर बाद जब थानेदार को फोन कर रहे तो वह फोन नहीं उठा रही हैं।

READ:  Mumbai Rain, Landslide: भारी बारिश से मुंबई में तीन बड़े हादसे, अब तक 25 की मौत

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।