जिनको भेड़-बकरी का फर्क नहीं पता, वे लोग किसान की राजनीति कर रहे : मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत

जिनको भेड़-बकरी का फर्क नहीं पता, वे लोग किसान की राजनीति कर रहे : मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मध्य प्रदेश में जैसे-जैसे उपचुनाव में वोटिंग की तारीख नज़दीक आ रही है वैसे-वैसे नेताओं के बिगड़े बोल भी सामने आ रहे हैं। केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने राहुल गांधी पर जोरदार हमला बोला है। गजेंद्र सिंह शेखावत ने तंज कसते हुए कहा कि जो चुनी हुई सरकार के कागजों को फाड़ सकते हैं। जो भेड़ और बकरी के बच्चे में फर्क नहीं समझते हुए भी किसान की राजनीति करते हैं। देश के राजकुमार वो हैं, जो ट्रैक्टर पर सोफा लगाकर बैठते हैं। उस राजकुमार को पूरा देश अच्छी तरह से जानता है।

इस कांग्रेस नेता ने शिवराज को लेकर दिया विवादित बयान, कहा- शिवराज तो भूखे-नंगे घर से पैदा हुए हैं..

ALSO READ:  कमलनाथ का शिवराज पर निशाना, चुनाव में जनता भगवान दिखती है और तब ही जनता के सामने घुटने टेकते हैं

मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान के गंगानगर-हनुमानगढ़ क्षेत्रों में आड़तियां फसल का खरीदार ही नहीं होता, बल्कि मनी लैंडर भी होता है, जो ब्याज पर काम करता है। किसान को सुविधा भी उपलब्ध कराता है, लेकिन कर्जा देकर किसान को मजबूर कर देता है। ऐसे में किसान सड़क पर आकर आत्महत्या तक करने को मजबूर हो जाता है।

कोई भी कच्चा मकान नहीं रहने देंगे, हर घर में नल से पानी मिलेगा !

मनी लैंडिंग करने वाले ऐसे ही लोग राजनीतिक आकाओं और राज्य सरकार के संरक्षण में कर्ज के तले दबे ऐसे ही किसानों को आंदोलन करने के लिए मजबूर कर रहे हैं। शेखावत ने कहा, आरएलपी के राष्ट्रीय संयोजक हनुमान बेनीवाल से अभी चर्चा नहीं हुई है, लेकिन एक बात में जानता हूं, देश के एक प्रांत पंजाब, जहां सरकार के संरक्षण में आंदोलन चल रहा है, कुछ एक हिस्सा हरियाणा का, इन्हें छोड़कर देश के बाकी किसानों ने आंदोलन क्यों नहीं किया।

ALSO READ:  मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा, माफ होंगे बिजली बिल, लेकिन कहीं ये सिर्फ चुनावी जुमला तो नहीं

उन्होंने वर्ष 2015 में अकाल को लेकर लोकसभा में हुई चर्चा का जिक्र करते हुए कहा कि मरू भूमि में 70 में से 63 साल अकाल पड़ा, लेकिन मेरे पश्चिमी राजस्थान में एक भी किसान ने आत्महत्या नहीं की। मेरा किसान उन परिस्थितियों के साथ जिजीविषा के साथ लड़ता है। अपनी आवश्यकताओं को भी उतना ही बढ़ाता है, जितनी उसकी आमदनी है।

कमलनाथ सरकार की तारीफ करवाना चाहते थे जीतू पटवारी, लेकिन बुजुर्ग महिला का ये जवाब सुन सब हंस पड़ें..

उन्होंने कहा, किसान कल्याण सम्मेलन के माध्यम से भाजपा ने किसानों को समझने का बीड़ा उठाया है कि नए कानूनों के माध्यम से मोदी जी ने किसानों की मुक्ति का मार्ग निकाला है। सम्मेलनों में किसानों को बताया जा रहा है कि किस प्रकार किसान लाभ उठा सकते हैं।

ALSO READ:  मध्य प्रदेश उपचुनाव : पुलिस कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धमकाकर भाजपा के पक्ष में प्रचार का दबाव बना रही !

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।