MCU Bhopal : 24 शिक्षकों के खिलाफ कुलपति दीपक तिवारी का फरमान, विभागाध्यक्षों के भी तबादले

Ayush Ojha | Bhopal

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित (MCU Bhopal) माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय (Makhanlal Chaturvedi National University of Journalism and Communication) इन दिनों किसी न किसी वजह से चर्चा का केन्द्र बना हुआ है। पहले असिस्टेंट प्रोफेस दिलीप मामला (Dilip Mandal) , MCU प्रशासन के खिलाफ बच्चों का आंदोलन, भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर (Pragya Thakur) के खिलाफ नारेबाजी और अब लापरवाही बरतने वाले प्रोफेसरों पर कुलपति दीपक तिवारी (VC Deepak Tiwari) कड़ा रुख।

दरअसल, विश्वविद्यालय में समय पर नहीं पहुंचने वाले करीब 24 प्रोफेसरों, असिस्टेंट प्रोफेसर और शिक्षकों पर कुलपति दीपक तिवारी गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए जवाब मांग है। वहीं कुछ विभागों के विभागाध्यक्षों को भी तत्काल प्रभाव से बदल दिया।

दरअसल, कुलपति दीपक तिवारी सोमवार सुबह साढ़े नौ बजे विश्वविद्यालय पहुंचकर विभागों का निरीक्षण करने निकल पड़े। इस दौरान कुछ एक प्रोफेसर ही विभागों में मौजूद पाए गए जबकी अन्य प्रोफेसर, असिस्टेंट प्रोफेसर और शिक्षक अपने-अपने विभागों से नदारद नजर आए। फिर क्या था, कुलपति साहब ने एक ही झटके में विश्विवद्यालय के 24 शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया साथ ही तीन-तीन विभागाअध्यक्षों के तबादले भी कर दिए।

Also Read:  Bhopal: Times Now journalist allegedly beaten up by hospital guards

इस समय विद्यार्थी अपनी कक्षाओं में पढ़ने के लिए मौजूद थे, लेकिन शिक्षक गायब रहे। काफी समय बीत जाने के बाद भी जब प्रोफेसर समय पर विश्वविद्याल नहीं पहुंचे तो कुलपति दीपक तिवारी ने कड़ा रुख अपनाते हुए सभी से जवाब तलब करने के आदेश जारी कर दिए और तय समय पर अपना जवाब एमसीयू प्रबंधन को सौंपने को कहा है।

वहीं तीन विभागाअध्यक्षों के हुए तबादलों के बाद अब प्रोफेसर पवित्र श्रीवास्तव को जनसंचार विभाग का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। जबकी डॉ. राखी तिवारी का ट्रांसफर पत्रकारिता विभाग से इलेक्ट्रोनिक विभाग में कर दिया है। वहीं दूसरी ओर विश्वविद्यालय के कुलाधिसचिव और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विभागअध्यक्ष डॉ. श्रीकांत सिंह अब पत्रकारिता विभाग की कमान सभालेंगे।

हांलाकि तबादले की बात से घबराने की जरूरत इसलिए नहीं है कि, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया विभाग से छह सीढी उतरकर सामने ही जनसंचार विभाग है और उसके ठीक नीचे पत्रकारिता विभाग। वहीं दूसरी ओर संजीव गुप्ता को जनसंचार विभाग से कार्यमुक्त कर दिया गया है और रीवा में पदस्थ डॉ. रंजन सिंह को भोपाल बुला लिया गया है जबकि भोपाल से लोकेंद्र सिंह राजपूत को रीवा के पत्रकारिता विभाग भेज दिया गया है।