कोरोना वैक्सीन लगवाने के 16 दिन बाद मौत, शरीर में होने लगे थे अजीबो-गरीब बदलाव

man died after 16 days of Corona vacciation Pfizer in america, strange changes happen in body
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दुनियाभर में कोरोना वैक्सीन के ट्रायल शुरू हो चुके हैं और भारत में भी कोरोना का टीका लगाने के लिए चरणबद्ध तरीके से प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। दुनिया में कई कोरोना के टीके आ चुके हैं। पीफिजर, कोवेक्सिन आदि। वहीं हाल ही में आई एक खबर ने सबके होश उड़ा दिए हैं। खबर के मुताबिक, एक डॉक्टर ने का कोरोना का टीका लगवाया था लेकिन वैक्सीन लगवाने के बात उसके शरीर में अजीबो-गरीब बदलाव होने लगे और इसके ठीक 16 दिन बाद उसकी मौत हो गई।

ये है दुनिया की सबसे महंगी करेंसी, एक सिक्के की कीमत है 30 लाख रुपये

खबर है कि, अमेरिका के साउथ फ्लोरिडा में एक 56 वर्षीय डॉक्टर माइकल ने कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक ली थी लेकिन इसके बाद उनकी हालत बिगड़ने लगी और बीती 3 जनवरी को उनकी मौत हो गई। इस मामले में डॉक्टर माइकल की पत्नी हेदी नेकलमेन ने आरोप लगाते हुए कहा है कि, उनके पति को 18 दिसंबर को फाइजर कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक दी गई थी लेकिन इसके बाद उनकी हालत बिगड़ने लगी और इससे उनकी मौत हो गई।

READ:  मुल्ला और जिहादी बताकर तोड़ डाली साईबाबा की मूर्ती, कौन हैं ये लोग?

घर पर ही संभव है कोरोना का इलाज, पर बरतें जरूरी सावधानियां

इस मामले में अब सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल प्रिवेंशन डॉक्टर माइकल की मौत के कारणों की जांच कर रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस मामले में जानकारी देते हुए डॉक्टर की पत्नी हेदी नेकलमेन ने बताया कि, वैक्सीन लेने के बाद ही उनमें अजीबों-गरीब लक्षण दिखने लगे थे। उनका चेहरा बदल गया था। उनके हाथ-पैरों में सूजन आने लगी थी और शरीर पर छोटे-छोटे धब्बे भी आ गए थे। इस दौरान उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया। वे एक अजीबो-गरीब और दुर्लभ बीमारी का शिकार हो गए थे और बीती 3 जनवरी को उनकी मौत हो गई।

READ:  क्या निजीकरण के ज़रिए आरक्षण खत्म करना चाह रही है सरकार?

How to get Coronavirus Vaccine: कोरोना का टीका कब, कहां, कैसे लगेगा, आपके दिमाग में घूम रहे सभी सवालों के जवाब

डॉक्टर माइकल की पत्नी ने आगे कहा, उन्हें प्लेटलेट्स की कमी हो गई थी। जिसके चलते उन्हें स्ट्रोक भी हुआ था। उनकी हालत काफी नाजुक और गंभीर थी और आखिर में उनकी मौत हो गई। वहीं इस मामले में वैक्सीन निर्माता कंपनी फाइजर ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा है कि हमें नहीं लगता कि उनकी मौत वैक्सीन लगवाने की वजह से हुई है। इसमें वैक्सनी का कोई लेना-देना नहीं है।

Oxford-AstraZeneca vaccine: दुनिया का वो पहले शख्स जिसे सबसे पहले लगा कोरोना का टीका

READ:  Delhi Covid wave worsens: 8 cases per minute, 3 deaths every hour

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।