Home » ममता बनर्जी को लगी चोट से बीजेपी को हो सकता है नुकसान?

ममता बनर्जी को लगी चोट से बीजेपी को हो सकता है नुकसान?

ममता बनर्जी को लगी चोट
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ममता बनर्जी को हाल ही में नंदीग्राम के दौरे के वक्त चोट लग गई। बीजेपी ने इसे हादसा बताया हो तो त्रिणमूल कांग्रेस इसके पीछे साज़िश का अंदेशा जता रही है। अब यह हादसा था या महज़ स्टंट यह तो जांच के बाद पता चलेगा लेकिन तब तक टीएमसी ममता बनर्जी के साथ हुई इस घटना का पूरा राजनीतिक इस्तेमाल करने वाली है। वहीं भाजपा भी इस घटना के बाद होने वाले नफा-नुकसान के आंकलन में जुट गई है।

नंदीग्राम में हुई घटना के बाद ममता बनर्जी का पैर फ्रैक्चर हो गया है। अब उन्होंने व्हील चेयर से प्रचार करने की घोषणा की है। टीएमसी इस घटना से सहानुभूति वोट जुटाने में लग गई है। एक मुख्यमंत्री का इस तरह चुनाव के बीच चोटिल होना गंभार बात तो है ही अगर इसके पीछे किसी की साज़िश है तो इसका प्रभाव भी चुनाव में पड़ सकता है। बीजेपी ने इस घटना के बाद राजनीतिक नफा नुकसान से निपटने के लिए काउंटर स्ट्रैटजी बनाने पर काम शुरु कर दिया है। इससे पता चलता है कि इस घटना का असर चुनावों पर पड़ सकता है।

READ:  Why is #ModiAgainst_IAS_IPS Trending On Twitter?

ALSO READ: engal Opinion Poll: इस बार बंगाल में नहीं बनेगी भाजपा सरकार, ममता करेंगी वापसी

ममता बनर्जी नंदीग्राम से चुनाव लड़ रही हैं। यहां से बीजेपी ने ममता के राईट हैंड रहे शुभेंदू अधिकारी को मैदान में उतारा है। नंदीग्राम शुभेंदू अधिकारी का गढ़ माना जाता है, ऐसे में इस सीट पर भीषण घमासान देखने को मिल सकता है। मीडिया की भी नज़र इस सीट पर सबसे ज्यादा रहने वाली है। ममता बनर्जी ने केवल एक ही सीट से चुनाव लड़ने का रिस्क उठाया है ऐसे में उनके लिए इस सीट को जीतना ज़रुरी हो गया है। अगर ममता बनर्जी इस सीट से चुनाव हार गई और राज्य का चुनाव जीत गई तो उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

भाजपा ने कहा कि ममता बनर्जी चुनाव हार रही हैं इसलिए वो चोट का नाटक कर रही हैं। बीजेपी ने कहा कि इतने सालों से मुख्यमंत्री की कुर्सी पर काबिज़ ममता बनर्जी को सहानुभूति वोटों का सहारा लेना पड़ रहा है यह बहुत ही अचरज की बात है।

READ:  Won't allow BJP to create UT in North Bengal: CM Mamata Banerjee

You can connect with Ground Report on FacebookTwitter and Whatsapp, and mail us at GReport2018@gmail.com to send us your suggestions and writeups.