Makar Sankranti 2021: मकर संक्राति पर भगवान होंगे प्रसन्न, ये है स्नान और विशेष पूजा विधि

Makar Sankranti 2021: bathe at home and special worship method puja vidhi makar sankranti
Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Makar Sankranti Snan and Puja Vidhi मकर संक्रांति पूजा विधि: मकर संक्रांति के दिन सूर्य भगवान जी के साथ भगवान विष्णु ,माता लक्ष्मी और शिव भगवान जी की भी पूजा करना शुभ बताया गया है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन पवित्र जल या गंगा नदी में स्नान करने का विधान बताया गया है। साथ ही इस दिन गरीबों को गर्म कपड़े, अन्न का दान करना शुभ माना गया है। संक्रांति के दिन तिल से निर्मित सामग्री ग्रहण करने शुभ होता है। जो जातक गंगा नदी या किसी पवित्र नदी में जाकर स्नान नहीं कर सकते हैं वह घर पर ही सामान्य पानी में गंगाजल की कुछ बूंदे और उसमें से तिल के थोड़े से दाने मिलाकर उसस पानी से स्नान करें। (Makar Sankranti Snan and Puja Vidhi, मकर संक्रांति पूजा विधि)

Makar Sankranti Snan and Puja Vidhi मकर संक्रांति पूजा विधि
-इस दिन सूर्य भगवान को अर्घ्य अवश्य देना चाहिए
-नहाकर साफ वस्त्र पहनने चाहिए
-एक साफ चौकी लेकर उस पर गंगाजल छिड़कें और लाल वस्त्र बिछाएं
-चौकी पर लाल चंदन से अष्टदल कमल बनाएं
-सूर्यदेव का चित्र या तस्वीर चौकी पर स्थापित करें
-सूर्यदेव के मंत्रों का जाप करें
-सूर्यदेव को तिल और गुड़ से बने हुए लड्डुओं का भोग लगाएं

Makar Sankranti 2021: आखिर क्यों मनाई जाती है मकर संक्रांति, क्या है इसकी पौराणिक कथा?

मकर संक्रांति की पौराणिक कथा
Makar Sankranti 2021: Why is Makar Sankranti celebrated, what is the pauranik katha?: मकर संक्रांति पर्व मनाने जाने की एक अपनी पौराणिक कथा (makar sankranit pauranik katha) हैं। शास्त्रों में ऐसा बताया गया है की मकर संक्रांति के दिन ही भगवान विष्णु ने पृथ्वी लोक पर असुरों का संहार करके उनके सिरों को काटकर मंदरा पर्वत पर फेंका था। भगवान की इस जीत को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है। मकर संक्रांति का पर्व यह भी संकेत देता हैं कि आज से हमारे ऋतुओं में परिवर्तन होना शुरु हो जाता हैं।इसके साथ ही शरद ऋतु का प्रभाव कम होने लगता है और बसंत मौसम का आगमन आरंभ हो जाता है। (Makar Sankranti 2021: Why is Makar Sankranti celebrated, what is the pauranik katha?)

makar sankranit pauranik katha: इतना ही नहीं मकर संक्रांति के दिन से यह भी माना जाता हैं की आज से दिन लंबे और रात छोटी होने लगती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मकर संक्रांति के दिन सूर्यदेव अपने पुत्र शनिदेव के घर जाते हैं। ऐसे में पिता और पुत्र के बीच प्रेम बढ़ता है, अर्थात् मकर संक्रांति के दिन भगवान सूर्य और शनि देव की अराधना करना शुभ फल देने वाला होता है। (Makar Sankranti 2021: Why is Makar Sankranti celebrated, what is the pauranik katha?)

Makar Sankranti 2021: इस मकर संक्रांति पर बन रहा है ये शुभ संयोग, ऐसे घर आएगी सुख-समृद्धि

मकर संक्रांति के पर्व पर तिल और गुड़ से बने लड्डू और अन्य मीठे पकवान बनाने की परंपरा है। साथ ही इसके पीछे यह महत्व भी है कि इस समय मौसम में काफी सर्दी होती है, तो तिल और गुड़ से बने लड्डू खाने से स्वास्थ्य ठीक रहता है। मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाने की भी एक खास परंपरा है। (Makar Sankranti 2021: Why is Makar Sankranti celebrated, what is the pauranik katha?)

Makar Sankranti 2021: मकर संक्रांति किस दिन और शुभ मुहूर्त कब
मकर संक्रांति हिन्दुओं का प्रमुख पर्व होता हैं मकर संक्रांति का त्यौहार पूरे भारत के साथ ही पड़ोसी देश नेपाल में भी बहुत ही उत्‍साह के साथ मनाया जाता है। वर्तमान शताब्दी की बात की जाये तो यह त्योहार जनवरी माह के चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही पड़ता है, लेकिन इस साल 2021 में यह मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी को श्रवण नक्षत्र में मनाया जाएगा। मकर संक्रांति पर्व के दिन यदि शुभ मुहूर्त की बात की जाये तो यह शुभ मुहूर्त सुबह 8:30 बजे से शाम 5:46 बजे तक है। (Makar Sankranti 2021)

Makar Sankranti 2021: कब है मकर संक्रांति, देखें शुभ मुहूर्त

मकर संक्रांति शुभ मुहुर्त

शुभ दिन – इस वर्ष 2021 में मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी को ही मनाई जाएगी।

शुभ समय – इस साल मकर संक्रांति का पुण्य काल सुबह 8 बजकर 30 मिनट से लेकर शाम 5 बजकर 46 मिनट तक रहेगा। इस समय के दौरान किया जाने वाला पूजा पाठ, दान पुण्य अत्यंत ही शुभकारी होता हैं।

Ground Report के साथ फेसबुकट्विटर और वॉट्सएप के माध्यम से जुड़ सकते हैं और अपनी राय हमें Greport2018@Gmail.Com पर मेल कर सकते हैं।