बड़ी संख्या में बीजेपी और आप कार्यकर्ता कांग्रेस में हुए शामिल

राज्यसभा चुनाव में बीजेपी विधायक ने की क्रॉस वोटिंग, कांग्रेस के खाते में गया वोट

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ माने जाने वाले गुना-शिवपुरी संसदीय क्षेत्र में बीजेपी (BJP) को तगड़ा झटका लगा है। बीजेपी के पांच बार विधायक और पूर्व राज्यमंत्री गोपीलाल जाटव, जो इस मंत्रिमंडल विस्तार में मंत्री पद के प्रबल दावेदार थे, ने राज्यसभा चुनाव में क्रॉस वोटिंग की है। हालांकि उन्होंने कहा है कि उनसे गलती से यह हुई है और मैं बीजेपी के साथ हूं।

Suyash Bhatt | Bhopal

बता दें कि, गोपीलाल जाटव राजमाता विजयराजे सिंधिया के कट्टर समर्थक माने जाते थे और उन्हीं के समर्थन से राजनीति में आए थे। ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस में रहते भी जाटव के उनसे संबंध कभी खराब नहीं हुए और यह माना जाता रहा है कि लोकसभा चुनाव में सिंधिया का अप्रत्यक्ष रूप से वे सहयोग करते हैं। लेकिन जब सिंधिया बीजेपी में शामिल हुए उसके बाद गोपीलाल जाटव का यह रूख कैसे हुआ यह बताना मुश्किल है।

ALSO READ:  उपचुनाव से पहले मध्य प्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, लगी आईपीएस अधिकारियों के तबादलों की झड़ी

हालांकि राज्यसभा के चुनाव में वोट डालने की प्रक्रिया बेहद पारदर्शी है और इसमें पार्टी के एजेंट को दिखाकर वोटिंग की जाती है ताकि क्रास वोटिंग के खतरे से बचा जा सके। इसके बाद भी गोपीलाल जाटव ने कांग्रेस के समर्थन में वोटिंग कर दी जिसके बाद उनका रुख सवालों के घेरे में है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इसके पीछे कहीं न कहीं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह की कूटनीति थी। 

इस पूरे घटनाक्रम से यह संदेश भी गया है कि सिंधिया अपने ही घर में अपनी ही पार्टी के लोगों के प्रति विश्वास पैदा नहीं कर पाए। मध्य प्रदेश के राजनीतिक हलकों में भी कांग्रेस को जिस तरह से कमजोर माना जा रहा था और बीजेपी लगातार यह दावे कर रही थी कि उपचुनाव में कांग्रेस के दांत खट्टे कर देगी, कांग्रेस की एक बड़ी कूटनीतिक जीत है।

ALSO READ:  बीजेपी नेता नरोत्तम मिश्रा ने दीपिका पादुकोण और अनुराग कश्यप को लेकर दिया ये बयान

राज्यसभा चुनाव के नतीजे अब घोषित हो चुके हैं। परिणाम के साथ ही यह साफ़ हो गया है कि भाजपा  से दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सोलंकी, वहीं कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह राज्यसभा पहुँच गए हैं। सबसे ज्यादा वोट दिग्विजय सिंह को मिले हैं। संख्या बल के आधार पर पहले से ही कयास लगाए जा रहे थे कि भाजपा के खाते में दो सीट आएँगी। परिणाम के बाद अब यह साफ़ हो गया है।

बीजेपी के ज्योतिराज सिंधिया और डॉक्टर सुमेर सिंह सोलंकी चुनाव जीते।ज्योतिरादित्य सिंधिया को मिले 56 वोट,तो वहीं डॉक्टर सुमेर सिंह सोलंकी को 55 वोट हासिल हुए। कांग्रेस के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह जीते ( 57 वोट)मिले,  जबकि फूल सिंह बरैया 36 वोटों से  चुनाव हार चुके हैं। यानी कांग्रेस के दोनों उम्मीदवारों को कुल 93 वोट मिले। बीजेपी के दोनों उम्मीदवारों को कुल 111 वोट मिले जिसमें बीजेपी विधायकों के 105 और दो बीएसपी एक एसपी तथा तीन निर्दलीयों ने सिंधिया और सोलंकी के पक्ष में मतदान किया।जबकि कांग्रेस के 92 विधायक हैं एक वोट बीजेपी विधायक गोपीलाल जाटव का कांग्रेस के खाते में गया।

ALSO READ:  मध्य प्रदेश उपचुनाव: BSP के 2 दर्जन से अधिक नेता कांग्रेस में शामिल, बीजेपी को झटका!

वोटों का गणित

कुल मतदाता 206

बीजेपी 107

कांग्रेस 92

बीएसपी 2

सपा 1

निर्दलीय 4

बीजेपी के दोनों उम्मीदवारों  को 111 मत मिले।

कांग्रेस के दोनों उम्मीदवारों को 93 वोट मिले।

2 वोट निरस्त हुए।