MP Elections: 3 हजार 46 मतदान केन्द्रों का संचालन पूरी तरह महिलाओं के जिम्मे, पढ़ें 5 खास बातें

Sharing is Important
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भोपाल, 27 नवंबर। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 के मद्देनजर चुनाव आयोग की तैयारी पूरी हो चुकी है। यहां बुधवार 28 नवंबर को वोटिंग के लिए मतदान केन्द्रों पर मंगलवार को ईवीएम और वीवीपीएटी मशीनों को कड़ी सुरक्षा के बीच भेज दिया गया। जानें खास बातें…

1)  चुनाव आयोग के मुताबिक मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए इस बार कुल 65 हजार 367 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं, जहां इन मतदान केन्द्रों पर सकुशल वोटिंग के लिए 3 लाख 782 कर्मियों की तैनाती की गई है।

2) इन सब के बीच मध्य प्रदेश चुनाव में वोटिंग की नजर से सबसे खास बात यह है कि कुल 65 हजार 367 मतदान केन्द्रों में से 3 हजार 46 मतदान ऐसे हैं जिनका संचालन पूरी तरह महिलाओं के जिम्में होगा। वहीं 160 पोलिंग बूथ दिव्यांग कर्मचारियों द्वारा संचालित किये जा रहे हैं।

ALSO READ:  मध्य प्रदेश उपचुनाव: मेहगांव में सिंधिया की गर्जना, बोले- जरूरत पड़ी तो तलवार लेकर उतरुंगा

3) सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, निष्पक्ष चुनाव के लिए 12 हजार 363 माईक्रो आब्जर्वर्स की भी तैनाती की गई है। कानून और शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए केन्द्रीय सुरक्षा बलों की 650 कंपनियां तैनात की गई हैं। भोपाल, मंडला और बालाघाट में एक-एक हेलीकॉप्टर भी सुरक्षा व्यवस्था के लिए तैनात किए गये हैं।

4) सुरक्षा के मद्देनजर मध्य प्रदेश में अन्य राज्यों से 33 हजार होमगार्डों की तैनाती की गई है। चुनाव आयोग के मुताबिक, केंद्रीय सुरक्षा बलों की बालाघाट में 76, भिंड में 24, छिंदवाड़ा में 19, मुरैना में 19, सागर में 18 और राजधानी भोपाल में 18 कंपनियां तैनात की गई हैं।

ALSO READ:  बीजेपी में शामिल होने के बाद पहली बार सिंधिया-शिवराज की बैठक, मध्य प्रदेश उपचुनाव पर हुई ये बातचीत

5) इस बार चुनाव आयोग वेबकास्टिंग के जरिए असामाजिक तत्वों, मतदान प्रक्रिया को बाधित करने वाले पोलिंग एजेंटों और फर्जी वोटरों पर निगरानी रखेगा। 6 हजार 655 मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग के जरिए लाइव प्रसारण और 6 हजार 400 मतदान केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जाएगी।

बता दें कि मध्य प्रदेश की 230 विधानसभा सीटों के लिए 28 नवंबर को वोटिंग होगी। इनके नतीजें 11 दिसंबर को घोषित किए जाएंगें। मेजोरिटी के लिए 116 सीटें जरूरी हैं। 15 सालों से सत्ता से बाहर है जबकि बीजेपी 15 सालों से विकास के मुद्दे पर दम भर रही है। इस बार मैदान में कांग्रेस, बीजेपी, बीएसपी, एसपी सहित आम आदमी पार्टी भी चुनावी मैदान में हैं, लेकिन मुख्य मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच है।

ALSO READ:  'कोरोना काल' में मध्य प्रदेश में राजनीतिक हलचल तेज़, 24 सीटों पर होना है उपचुनाव

सत्ता विरोधी लहर इस बार बीजेपी के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है। बीजेपी की ओर से शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हैं जबकि कांग्रेस ने इस बार मुख्यमंत्री पद का चेहरा अब तक सामने नहीं रखा है। कमलनाथ और ज्योतिरादित्य दोनों की चुनाव की जिम्मेदारी संभाले हुए हैं। वहीं आम आदमी पार्टी की ओर से आलोक अग्रवाल मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हैं।

ग्राउंड रिपोर्ट से जुड़ी तमाम खबरों के लिए हमारे यू ट्यूब चैनल https://www.youtube.com/groundreportvideos पर क्लिक कर सब्सक्राइब करें और घंटी के आइकन पर क्लिक करें। आपको यह वीडियो न्यूज़ कैसी लगी अपना फीडबैक, सुझाव या शिकायत आप कमेंट में बता सकते हैं।

Comments are closed.